Breaking News

कृषि विधेयक 2020 किसान विरोधी : जुबेर

  • झामुमो का एक दिवसीय धरना प्रदर्शन

खूंटी । जिला मुख्यालय के सामने झारखण्ड मुक्ति मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने एक दिवसीय धरना देकर राष्ट्रपति के नाम उपायुक्त को अध्यादेश वापस कराने हेतु ज्ञापन दिया। केंद्र सरकार की कृषि विधेयक 2020 के विरोध में झामुमो के केंद्रीय निर्णय के आलोक में जिला मुख्यालय के सामने में झारखण्ड मुक्ति मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने केंद्र सरकार के कृषि विधेयक 2020 का विरोध किया ।
एकदिवसीय धरना प्रदर्शन कार्यक्रम में झामुमो के लोगों ने केंद्र सरकार के विरोध में नारेबाजी भी की। देश के किसानों का शोषण करने बन्द करो, कृषि विधेयक वापस लो। काला कानून नहीं चलेगा, केंद्र सरकार की मनमानी नहीं चलेगी, केंद्र सरकार होश में आओ जैसे नारे लगाए गए। जिलाध्यक्ष जुबेर अहमद ने कहा कि केंद्र सरकार बगैर राज्य सरकार के परामर्श के कृषि विधेयक को पारित करना चाहती है इसलिए झामुमो के केंद्रीय अध्यक्ष के निर्णय के आलोक में राज्य के सभी जिला मुख्यालय के सामने एक दिवसीय धरना प्रदर्शन का कार्यक्रम आयोजित किया गया था। इस संबंध में उपायुक्त से मिलकर राष्ट्रपति के नाम झामुमो के कार्यकर्त्ता ज्ञापन भी सौंपें ।

कार्यकर्ता उपस्थित थे

कार्यक्रम में मुख्य रूप से झारखंड मुक्ति मोर्चा खूँटी जिलाध्यक्ष जुबैर अहमद, उपाध्यक्ष मकसूद अंसारी, उपाध्यक्ष मगन मंजित तिड़ू, जिला सचिव गुलशन सिंह मुण्डा, जिला सह सचिव मोजिर अंसारी, तोरपा विधानसभा पुर्व प्रत्यासी सुदीप गुड़िया, खूँटी विधानसभा पुर्व प्रत्याशी सुशील पहान, जिला संगठन सचिव अर्जुन मुण्डा, महिला मोर्चा जिला संगठन सचिव उषा धान, सचिव सीता नाग, फुलमनी तिड़ू, बिनिता संगा, जिला एसटी मोर्चा हेमंत तोपनो, खूँटी प्रखण्ड अध्यक्ष शंकर सिंह मुण्डा, सचिव महेंद्र सिंह मुण्डा, सोमा तिड़ू, सिलादोन पंचायत अध्यक्ष दुबराज मुण्डा, कर्रा प्रखण्ड सचिव महादेव मुण्डा, कार्यकर्णीय सदस्य जोनसन होरो, पोसेया संगा, मंगल होरो, रनिया कोषाध्यक्ष जोसेफ अंसारी, युवा मोर्चा अध्यक्ष सुरेश कोनगड़ी, शाकिर अंसारी, तोरपा प्रखण्ड अध्यक्ष अजीत तोपनो, प्रवक्ता रतीश शर्मा, प्रदीप केसरी, दिनबन्धु हजाम, अमीत बडींग, अजीत सुरीन, अड़की प्रखण्ड अध्यक्ष सोनाराम यादव, सोशल मीडिया प्रभारी रविन्द्र मुण्डा, देव कुमार यादव, मुरहू प्रखण्ड अध्यक्ष सनिका बोदरा, विनोद हेरेन्ज, अमरजन मुण्डू, लक्ष्मी गुप्ता, रुपेश कुमार आदि कार्यकर्ता उपस्थित थे।

Check Also

जब राजनीति विज्ञान से प्रोफ़ेसर बना जा सकता है तो +2 शिक्षक क्यों नहीं ?

🔊 Listen to this राज्य के +2 विद्यालयों में राजनीति विज्ञान शिक्षक को शामिल करने …