Breaking News

चतरा जिला में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी व पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की 151वीं जयंती मनाई गई

  • उपायुक्त दिव्यांशु झा व पुलिस अधीक्षक ऋषभ झा ने पुष्प अर्पित कर किया नमन

अजय चौरसिया

चतरा : आज दो अक्टूबर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी व पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के 151 वीं जयंती जिले भर में मनाई गई। चतरा स्मारक स्थल फांसी तालाब स्थित उपायुक्त दिव्यांशु झा व एसपी ऋषभ झा ने राष्ट्रपिता को स्मरण करते हुए उनकी तश्वीर में पुष्प अर्पित किया। कई राजनीतिक दल के लोगों ने सरकारी व गैर सरकारी कार्यालय में जयंती मनाई गई। भद्रकाली महाविद्यालय परिसर में प्राचार्य डॉ दुलार ठाकुर व संस्थापक कुमार यशवंत नारायण सिंह ने महात्मा गांधी व जवाहर लाल नेहरू के तश्वीर पर माल्यार्पण कर जयंती मनाई। इटखोरी गांधी स्मारक में कांग्रेसियों ने, सिमरिया अनुमंडल स्थित गांधी स्मारक में भाजपाइयों ने गांधी व नेहरू के प्रतिमा में माल्यार्पण किया।

वक्ताओं ने दोनों महापुरूषो को नमन किया। उनके बताए रास्ते चलने को कहा। चतरा में अपर समाहर्ता, संतोष कुमार सिन्हा, अनुमंडल पदाधिकारी चतरा मुमताज अंसारी समेत पदाधिकारियों ने बारी-बारी से बापू की तश्वीरो में पुष्प अर्पित किया। श्रधांजलि दी गई। शहीद स्मारक में अन्य शहीदों की तस्वीरों पर भी पुष्प अर्पित कर उन्हें याद किया गया। उपायुक्त की अध्यक्षता में एक कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया। जिसमें सभी धर्म के लोग शामिल हुए। कार्यक्रम में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के विचारों को स्मरण करते हुए आपस में भाईचारा एवं प्रेम की भावना रखते हुए उनके दिखाए अहिंसा के राह पर चलने की बात सभी धर्मों के लोगों द्वारा कही गई। साथ ही चतरा के इतिहास में शहीदों द्वारा दिए गए बलिदान को भी याद किया गया। इसके अलावे उपायुक्त ने कहा कि हमे राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के नीति एवं सिद्धांतो को अपने जीवन में अपनाकर उसे लागू करना ही उनके प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

मौके पर ये रहे उपस्थित

मौके पर पूर्व विधायक योगेंद्र नाथ बैठा, भाजपा प्रखंड अध्यक्ष देव कुमार सिंह, महामंत्री मृत्युंजय सिंह, नंदकिशोर पोद्दार, कांग्रेस प्रखंड अध्यक्ष रामाधीन यादव, निरंजन सिंह, सिमरिया भाजपा प्रखंड अध्यक्ष दयानिधि सिंह, संयोजक शुभम सिंह, कार्यसमिति सदस्य संजय यादव, उपेंद्र सिंह, परीक्षा नियंत्रक प्रो महेंद्र ठाकुर, ललित मोहन चौधरी समेत मौजूद थे।

Check Also

जब राजनीति विज्ञान से प्रोफ़ेसर बना जा सकता है तो +2 शिक्षक क्यों नहीं ?

🔊 Listen to this राज्य के +2 विद्यालयों में राजनीति विज्ञान शिक्षक को शामिल करने …