Breaking News

किसान विरोधी तीनों काला कानून के विरोध में आंदोलन लागातार आँदोलन चला रही है किसान सभा

 

  • किसान सभा का संसद मार्च 26 एवं 27 नवंबर को

रामगढ़।आज शनिवार को सीपीआई कार्यालय मंजूर भवन झंडा चौक रामगढ़ में किसान समन्वय संघर्ष समिति की बैठक राजेन्द्र गोप अध्यक्षता में हुई।बैठक में अखिल भारतीय किसान सभा के महासचिव महेंद्र पाठक, किसान संग्राम समिति के उपाध्यक्ष शाहिद अंसारी, अखिल भारतीय किसान महासभा के जयनंदन गोप , विष्णु कुमार मौजद थे।

26, 27 नवंबर को दिल्ली संसद घेराव में शामिल होने का निर्णय लिया

केंद्र सरकार के किसान विरोधी, मजदूर विरोधी नीतियों के विरोध में पूरे राज्य में गांव गांव जन जागरण अभियान चलाने सभी प्रखंडों में धरना, प्रदर्शन ,जुलूस, निकालने राज्य स्तर पर प्रचार के लीए पर्चा, पोस्टर, सोशल मीडिया, दीवार लेखन , करने और 26, 27 नवंबर को दिल्ली संसद घेराव में शामिल होने का निर्णय लिया गया।उपस्थित नेताओं ने कहा कि केंद्र की सरकार किसान मजदूर विरोधी नीतियों को ला रही है। देश के बड़े-बड़े कंपनियों को लाभ पहुंचाने के लिए सरकार लगातार नोटबंदी, जीएसटी और तालाबंदी कर देश की अर्थव्यवस्था को बर्बाद कर चुकी है। अब सरकार की गिद्ध दृष्टि नजर किसानों पर पड़ी है। किसानों की जमीन जबरन लूटी जा रही है।जनहित के कानूनों में संशोधन जारी है। कृषि व्यवस्था को चौपट करने के लिए,देश के बड़े बड़े कारपोरेट घराने को लाभ पहुंचाने के लिए यह तीनों काला कानून को सरकार लाई है।देश के 300 से अधिक किसान संगठनों 18 राजनीतिक दलों के विरोध के बावजूद संसद को शर्मसार कर कानून बनाया गया जो जन विरोधी कानून है। उसके विरोध में पूरे देश में 80% लोगों में आक्रोश है।केंद्र की मोदी सरकार के विरोध में जन आंदोलन पूरे राज्य में किसान संगठनों के लोग किसान संघ संघर्ष समन्वय समिति की बैनर तले करेंगे।

बैठक में कई लोग मौजूद थे 

बैठक में महेंद्र पाठक ,राजेन्द्र गोप, माजीद अनसारी, विष्णु कुमार, जयनंदन गोप , जितेंद्र मिश्रा ,हीरालाल महतो, महली, लालमोहन मुंडा, सुफल महतो, सुजीत सिन्हा, सहित कई लोग मौजूद थे ।

Check Also

जब राजनीति विज्ञान से प्रोफ़ेसर बना जा सकता है तो +2 शिक्षक क्यों नहीं ?

🔊 Listen to this राज्य के +2 विद्यालयों में राजनीति विज्ञान शिक्षक को शामिल करने …