Breaking News

हेपेटाइटिस सी वायरस खोजने वाले तीन वैज्ञानिकों को मिला नोबल पुरस्कार

  • वैज्ञानिकों के इस काम से ब्लड टेस्ट और नई दवाएं संभव हो सकती हैं और दुनिया में लाखों लोगों की जिंदगी बचाई जा सकेगी

स्टॉकहोम । 2020 नोबल पुरस्कार की शुरुआत सोमवार से हो गई है। अमेरिकी हार्वे जे आल्टर, चार्ल्स एम राइस  और ब्रिटिश वैज्ञानिक माइकल हॉटोन  को हेपेटाइटिस सी वायरस (hepatitis C virus) की खोज के लिए नोबल पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। मेडिसीन के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए इन्हें इस सम्मान से नवाजा गया है।

सोमवार को स्टॉकहोम में पुरस्कार का ऐलान किया गया। नोबल कमेटी ने उल्लेख किया कि तीनों वैज्ञानिकों का यह काम  रक्तजनित हेपेटाइटिस के बड़े स्रोत के बारे में विस्तार से जानकारी मुहैया कराने में मदद करता है जो हिपेटाइटिस ए और बी से नहीं हो सकता है। सम्मान देने वाले नोबल ज्यूरी ने बताया कि इस हेपेटाइटिस के कारण सिरोसिस और लिवर कैंसर होता है। कमेटी ने कहा कि इन तीनों वैज्ञानिकों के इस काम से ब्लड टेस्ट और नई दवाएं संभव हो सकती हैं और दुनिया में लाखों लोगों की जिंदगी बचाई जा सकेगी।

कमेटी ने इन वैज्ञानिकों के योगदान का जिक्र करते हुए शुक्रिया अदा किया। कमेटी ने  कहा, ‘उनकी खोज के लिए शुक्रिया , वायरस के लिए अधिक संवेदनशील ब्लड टेस्ट की सुविधा अब उपलब्ध है।’  स्टॉकहोम (Stockholm) में कारोलिंस्का इंस्टीट्यूट  की पैनल विजेता का ऐलान कर रही है। उल्लेखनीय है कि कोरोना वायरस महामारी के कारण इस साल मेडिसीन अवॉर्ड अहम है।

यह सम्मान गोल्ड मेडल और 10 मिलियन स्वीडिश क्रोनर यानि 1,118000 डॉलर से अधिक की रकम के साथ होता है। 124 साल पहले इस अवॉर्ड की शुरुआत स्वीडिश इंवेंटर अल्फ्रेड नोबल ने की थी। इसके अलावा भौतिक विज्ञान  (physics), रसायन शास्त्र (chemistry), साहित्य ( literature) , शांति  (peace)  और अर्थव्यवस्था (economics) के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए भी विजेताओं का ऐलान किया जाएगा।

जानें इन महान वैज्ञानिकों को

हार्वे जे आल्टर का जन्म 1935 में न्यूयार्क में हुआ था। यूनिवर्सिटी ऑफ रोचेस्टर मेडिकल स्कूल से उन्होंने मेडिकल डिग्री हासिल की और यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल ऑफ सिएटल व स्ट्रॉन्ग मेमोरियल हॉस्पिटल से इंटरनल मेडिसीन में ट्रेनिंग प्राप्त की। वहीं, माइकल हॉटोन का जन्म ब्रिटेन में हुआ था। किंग्स कॉलेज लंदन से 1977 में उन्होंने पीएचडी की। 2010 से वे अलबर्टा यूनिवर्सिटी में कनाडा एक्सेलेंस रिसर्च इन वायरोलॉजी और ली का शिंग ऑफ वायरोलॉजी में हैं। इस रिसर्च में शामिल तीसरे वैज्ञानिक चार्ल्स एम राइस का जन्म 1952 में सैक्रामेंटो में हुआ था उन्होंने 1981 में कैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से पीएचडी की डिग्री हासिल की। 2001 से वे सेंटर फॉर द स्टडी ऑफ हेपेटाइटिस सी के लिए रॉकफेलर यूनिवसिटी में  हैं।

Check Also

पतरातू में मतदाता जागरूकता अभियान

🔊 Listen to this पतरातू(रामगढ़)। आगामी लोकसभा निर्वाचन में नागरिकों द्वारा शत प्रतिशत मतदान करने …