Breaking News

जैप और नवनियुक्त होमगार्ड्स का आंदोलन 8वें दिन भी जारी, सरकार से नहीं मिल रहा कोई रिस्पॉन्स

  • लातेहार, रांची और धनबाद के होमगार्ड्स नव चयनित अभ्यर्थी अपनी नियुक्ति पत्र की मांग को लेकर पिछले आठ दिनों से मोरहाबादी मैदान में आंदोलन कर रहे हैं

रांचीः  झारखंड आर्म्ड फोर्स की बहाली के लिए हुए एग्जाम के सेकेंड लिस्ट का पिछले पांच साल से इंतजार कर रहे अभ्यर्थी और लातेहार, रांची और धनबाद के होमगार्ड्स नव चयनित अभ्यर्थी अपनी नियुक्ति पत्र की मांग को लेकर पिछले आठ दिनों से मोरहाबादी मैदान में आंदोलन कर रहे हैं. आठ दिन बीत जाने के बाद भी सरकार के कानों तक आंदोलनकारियों की आवाज नहीं पहुच पाई है.

जैप अभ्यर्थी 5 साल से कर रहे रिजल्ट का इंतजार
आंदोलनकारी अभ्यर्थियों ने बताया कि 5 साल पहले ही झारखंड आर्म्ड फोर्स में बहाली के लिए विज्ञापन निकाला गया था. बहाली की प्रक्रिया भी हुई और पहली लिस्ट में निकले नाम के आधार पर कई लोगों की बहाली सिपाही के पद पर की गई, जबकि नियम के अनुसार हर विभाग बहाली में दूसरी वरीयता सूची भी जारी करता है. लेकिन पांच साल बीत जाने के बाद भी आज तक दूसरी सूची जारी नहीं की गई. दूसरी वरीयता सूची के लिए वे कई बार पुलिस मुख्यालय और झारखंड आर्म्ड फोर्स मुख्यालय में चक्कर काट चुके हैं, लेकिन इसका कोई फायदा नहीं हुआ. इसकी वजह से वह बाध्य होकर आंदोलन करने के लिए झारखंड के अलग-अलग जिलों से रांची में इकट्ठा हुए हैं. उनके आंदोलन के आठ दिन हो चुके हैं. इस बीच रांची सांसद संजय सेठ और विधायक बंधु तिर्की जरूर आंदोलनकारियों से मिलने पहुंचे, लेकिन नतीजा कुछ नहीं निकला.

होमगार्ड्स का भी आंदोलन
मोरहाबादी मैदान में ही झारखंड के धनबाद, रांची और लातेहार जिले से गृह रक्षा वाहिनी यानी होमगार्ड्स ने भी आंदोलन शुरू कर दिया. प्रतियोगी परीक्षा पास कर चुके और नियुक्ति के इंतजार में बैठे नव चयनित अभ्यर्थी मोरहाबादी मैदान में अपनी मांग को लेकर पिछले आठ दिनों से धरने पर बैठे हुए है, लेकिन अभी तक सरकार का कोई भी नुमाइंदा इनका हाल-चाल तक लेने नहीं आया.

3 साल बाद भी नहीं हुई नियुक्ति
मोरहाबादी मैदान पहुंचे नव चयनित अभ्यर्थियों ने बताया कि 2017 में ही होमगार्ड के लिए बहाली निकली थी. बहाली में उन्होंने भाग लिया, जिसके बाद उनका फिजिकल, मेडिकल टेस्ट, लिखित परीक्षा के साथ-साथ सभी तरह के फॉर्मेलिटीज पूरी की गई. आज 3 साल बीत जाने के बाद भी न तो उन्हें नियुक्ति पत्र मिला और न ही ट्रेनिंग के संबंध में कोई जानकारी दी गई. यही वजह है कि वे अपनी नियुक्ति की मांग को लेकर रांची के मोरहाबादी मैदान पहुंचे हैं. मांगें पूरी न होने तक उनका आंदोलन जारी रहेगा.

नौकरी की सभी प्रक्रिया पूरी
आंदोलनकारी अभ्यर्थियों का कहना है कि एक नौकरी के लिए सभी प्रक्रिया को पूरा कर लिया गया है. यहां तक कि सरकार के ऑफिशियल वेबसाइट पर उनका रिजल्ट भी निकाला गया, जिसमें उनके चयनित होने की सूचना दी गई. इसके बावजूद 3 साल बीत जाने पर भी अभी तक उनकी जॉइनिंग नहीं करवाई गई. इसके लिए वह पुलिस मुख्यालय से लेकर मुख्यमंत्री तक से मुलाकात कर चुके हैं, लेकिन इसका कोई हल अभी तक नहीं निकला.

मोरहाबादी मैदान में डटे आंदोलनकारी
एक तरफ जहां जैप के अभ्यर्थी सेकेंड लिस्ट निकालने की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे. दूसरी तरफ नव नियुक्त होमगार्ड्स नियुक्ति के लिए आंदोलन कर रहे. दोनों अभ्यर्थियों ने रांची के मोरहाबादी मैदान को ही अपना आंदोलन स्थल बना लिया है. उनका साफ कहना है कि जब तक उनकी मांगें मानी नहीं जाएगी, वह मोरहाबादी मैदान में ही आंदोलन करते रहेंगे.

Check Also

जब राजनीति विज्ञान से प्रोफ़ेसर बना जा सकता है तो +2 शिक्षक क्यों नहीं ?

🔊 Listen to this राज्य के +2 विद्यालयों में राजनीति विज्ञान शिक्षक को शामिल करने …