Breaking News

डीसी ने जन्म मृत्यु जागरूकता रथ को हरी झंडी दिखा कर किया रवाना

जामताड़ा : डीसी फैज अक अहमद मुमताज ने जन्म मृत्यु निबंधन से संबंधित जागरूकता रथ को हरी झंडी दिखा कर रवाना किया।
डीसी ने कहा कि जन्म मृत्यु निबंधन को अनिवार्य रुप से दर्ज करवाने के उद्देश्य से ही जागरूकता रथ को रवाना किया गया। कोई भी व्यक्ति जन्म-मृत्यु से संबंधित प्रमाण पत्र 21 दिनों के अंदर पंचायत से प्राप्त कर सकते हैं। पंचायत सचिव के द्वारा जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र 21 दिनों के भीतर निर्गत किया जाता है। शहरी क्षेत्र में नगर पंचायत या नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी द्वारा 21 दिनों में प्रमाण पत्र निर्गत करते हैं। इसके लिए पंजीकरण जरूरी है। डीसी ने कहा कि जन्म मृत्यु का निबंधन अनिवार्य है। अकसर देखा गया है कि लोग लापरवाही में जन्म और मृत्यु का निबंधन समय पर नहीं कराते हैं। सरकारी व्यवस्थानुसार जन्म एवं मृत्यु के 21 दिनों के भीतर निबंधन करवाना अनिवार्य है।

कहा ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के लिए वेवसाइट crsorg.gov.in पर जाकर निबंधन करवा सकते हैं। ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले लोग नजदीकी पंचायत में जाकर पंचायत सचिव से प्राप्त कर सकते हैं व शहरी क्षेत्र में नगर निकाय में जाकर जन्म मृत्यु रजिस्ट्रार से प्राप्त कर सकते हैं।

मौके पर जिला सांख्यिकी पदाधिकारी पंकज कुमार तिवारी ने कहा कि जन्म एवं मृत्यु का पंजीकरण सामाजिक एवं आर्थिक विकास के लिए अनिवार्य है। जन्म मृत्यु पंजीकरण से प्राप्त सूचनाएं हमारे योजनाओं के नीति निर्धारण में सहायक होती है। इसलिए जन्म एवं मृत्यु का पंजीकरण से कई प्रकार के लाभ मिलते है।

जन्म प्रमाण पत्र से होने वाले लाभ

•समाज कल्याण योजनाओं का लाभ लेने के लिए
•बच्चों के प्रथम अधिकार
•स्कूलों में दाखिला हेतु
•आयु का निश्चयात्मक प्रमाण हेतु
•पास्पोर्ट व ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने हेतु

मृत्यु प्रमाणपत्र से होने वाले लाभ

•पैतृक संपत्ति के उतराधिकार के लिए
•बीमा राशि पाने के लिए
•पारिवारिक पेंशन के लिए

इस अवसर पर कोषागार पदाधिकारी प्रधान मांझी, जिला सांख्यिकी पदाधिकारी पंकज कुमार तिवारी, सहायक सांख्यिकी पदाधिकारी गंगा राम मरांडी, अशोक मुर्मू, धर्मेन्द्र कुमार, मिथलेश कुमार मधुकर सहित अन्य उपस्थित थे।

Check Also

जब राजनीति विज्ञान से प्रोफ़ेसर बना जा सकता है तो +2 शिक्षक क्यों नहीं ?

🔊 Listen to this राज्य के +2 विद्यालयों में राजनीति विज्ञान शिक्षक को शामिल करने …