Breaking News

भाकपा प्रदेश कार्यालय में 90 वा शहीद दिवस मनाया गया

रांची। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी राज्य कार्यालय अल्बर्ट एक्का चौक में शहीदे आजम भगत सिंह राजगुरु एवं सुखदेव की याद में पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि अर्पित की गई। उन्हें याद करते हुए राँची जिला सचिव अजय सिंह ने कहा कि भगत सिंह राजगुरु सुखदेव हमारे देश को गुलामी की जंजीरों से आजादी दिलाने के लिए अपने प्राणों की आहुति हंसते-हंसते फाँसी के फंदे में दे गए।उन्होंने कभी कल्पना भी नहीं की थी कि देश की स्थिति ऐसी हो जाएगी। जहां एक इंसान के द्वारा दूसरे इंसान का शोषण कर अपने आप को सबसे शक्तिशाली बनाने की होड़ मची होगी। जिन लोगों को जनता ने शक्ति देकर पद में बैठाया है। उन तमाम लोगों ने पद का दुरुपयोग करते हुए जनता के ऊपर ही काले कानून लागू करवाए जायेंगे। जब देश गुलाम था तब अंग्रेजों के द्वारा आजादी की लड़ाई लड़ने वाले हर क्रांतिकारी के ऊपर देशद्रोह का मुकदमा थोपा जाता था।

आज आजाद देश में सत्ता शासन के द्वारा सत्ता के विरोध में बोलने वाले हर शख्स के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा थोपा जाता है।अंग्रेज चले गए पर उनके द्वारा चलाई जा रही सत्ता शासन आज भी हमारे देश में विराजमान है। हमें इन तमाम राजशाही तंत्र से आजादी की आवश्यकता है।सभा को संबोधित करते हुए भारत की कम्युनिस्ट पार्टी मार्क्सवादी के जिला सचिव सुखनाथ लोहरा ने कहा कि भगत सिंह के द्वारा बताए गए मार्ग पर चलकर ही सही मायने में हिंदुस्तान के हर मेहनतकश किसान मजदूर को न्याय मिल सकता है।आज जिस तरीके से कॉर्पोरेट ओके द्वारा आज की नई युवा पीढ़ी का शोषण किया जा रहा है।

सरकारी तंत्र के ढांचे को निरस्त किया जा रहा है। कहीं ना कहीं हमारे देश को पुनः गुलाम बनाने की साजिश रची जा रही है।हिंदुस्तान में 90% जनता की कमाई 10% कॉर्पोरेट ओं की कमाई के बराबर है। इस अंतर को आंख ना होगा हर हाथ को काम हर बच्चे को शिक्षा हर नागरिक को स्वास्थ्य की गारंटी करनी होगा। तभी सही मायने में शहीदों के सपनों का भारत साकार हो पाएगा। इस कार्यक्रम का संचालन पावेल कुमार ने किया। आज के कार्यक्रम में मुख्य रूप से अधिवक्ता जयंत सिंहा, अफाक रसीली, राजू कुमार, मेहुल मृगेंद्र अंकित कुमार मनोज कुमार श्यामल चक्रवर्ती अशोक सिंह ने विचार रखे।

Check Also

जब राजनीति विज्ञान से प्रोफ़ेसर बना जा सकता है तो +2 शिक्षक क्यों नहीं ?

🔊 Listen to this राज्य के +2 विद्यालयों में राजनीति विज्ञान शिक्षक को शामिल करने …