Breaking News

भाकपा रामगढ़ अंचल की बैठक संपन्न

मेदिनीनगर। भारतीय कम्यूनिस्ट पार्टी के रामगढ़ अंचल अन्तर्गत के नावाडीह शाखा की बैठक आज शुषमा मुरमा की अध्यक्षता में हुई। बैठक को संबोधित करते हुए राज्य कार्यकारिणी सदस्य सूर्यपत सिंह ने कहा कि 2005 में कम्युनिस्ट पाटिया की सरकार में मनमोहन सरकार ने वन अधिकार अधिनियम बनाकर वन में निवास करने एवं वन भूमि को जोत कोड़ करने वाले गरीबों को वन पट्टा देने का कानून लागू किया। परंतु व्यवहार में झारखंड के अंदर वन पट्टा देने के नाम पर गरीब भूमिहीनों पर मुकदमे किए जा रहे हैं। जिसे भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी का भी बर्दाश्त नहीं करेगी गरीबों को वन पट्टा देने की मांग को तेज करेगी।

बैठक में जिला सचिव रुचिर कुमार तिवारी ने कहा कि रामगढ़ अंचल के ग्राम नावाडीह अंबाखाड़, मंजुराहीखाड़, गोरे , आदि लगभग सभी गांव बिचौलियों का अड्डा बना हुआ है वन पट्टा एवं अन्य योजना के नाम पर यहां के भोले भाले दलित आदिवासियों से लाखों का उगाही यह दलाल लोग कर चुके हैं। जो एक सोचनीय विषय है। वही इस इलाके के लोगों को पीने का साफ पानी भी उपलब्ध नहीं है।

वहीं अंबाखाड़ी गांव में आज 50 वर्षों से वन की भूमि पर घर मकान बनाकर रह रहे हैं बन के ठेकेदारों के द्वारा उनको लाकर वन में काम करने के लिए बसाया गया और पूर्णरूपेण वे सभी लोग वन भूमि पर ही निर्भर हैं परंतु अभी तक उनको कोई वश पट्टा नहीं दिया गया। वन प्रमंडल पदाधिकारी इस पर संज्ञान लेकर इन लोगों को वन पट्टा देने के लिए आगे की कार्रवाई करनी चाहिए जिससे इन गरीब आदिवासियों को सरकारी योजनाओं का लाभ मिल सके। बैठक में नौजवान संघ के उपाध्यक्ष अभय कुमार, अलाउद्दीन, दीवानी भुइयां, रोहित तुरी, दीपक दूरी, उमेश भूइंया, कुमुदिनी मुरमा, गुंजरी देवी , क्रिस्टोफर सुरैन, ग्लोरिया मुंडा, सहित कई लोग उपस्थित थे।

Check Also

जब राजनीति विज्ञान से प्रोफ़ेसर बना जा सकता है तो +2 शिक्षक क्यों नहीं ?

🔊 Listen to this राज्य के +2 विद्यालयों में राजनीति विज्ञान शिक्षक को शामिल करने …