Breaking News

दो दिवंगत पत्रकार के नाम पर दो पथो का किया गया नामकरण, मेयर उप मेयर ने किया उद्घाटन

मेदिनीनगर:पलामू जिले में पत्रकारिता के स्तम्भ रहे दो दिवंगत पत्रकारों के नाम पर मेदिनीनगर नगर निगम क्षेत्र के दो सड़क का नामकरण किया गया। दिवंगत पत्रकार रामेश्वरम और स्व सुरेंद्र सिंह रूबी के नाम पर पथ नामकरण का उदघाटन नगर निगम की महापौर अरूणा शंकर व उप महापौर मंगल सिंह ने किया। इस मौके पर वार्ड पार्षद मनोज कुमार सिंह भी उपस्थित थे। मौके पर मेयर व डिप्टी मेयर ने कोविड 19 गाईड लाईन का पालन करते हुए नारियल फोड़कर पथ का शुभारंभ किया । इसके पूर्व स्व रामेश्वरम की तस्वीर पर माल्यार्पण व पुष्पांजली कर सबों ने उन्हें विनम्र श्रद्धांजली दी।

अब से नगर निगम क्षेत्र के वार्ड नंबर 22 स्थित पोस्ट आॅफिस के पीछे के सड़क जो रामेश्वरम जी के घर से होते हुए  कोयल नदी तट तक जाती है वह रामेश्वरम पथ के नाम से जाना जायेगा। इसके अलावा नावाटोली स्थित डा अरूण सिन्हा के घर से जायंटस भवन होते कोयल नदी तट तक जानेवाली सड़क को एसएस रूबी पथ के नाम से जाना जायेगा। नगर निगम की ओर से इसकी अधिसूचना पहले ही जारी कर दी गयी थी।दोनों दिवंगत पत्रकारों के नाम से सड़क के नामकरण का प्रस्ताव पलामू पत्रकार परिषद की ओर से निगम को भेजा गया था। जिसके आलोक में निगम बोर्ड की बैठक में इसे सर्वसम्मति से पास किया गया था।इसका उदघाटन मेयर व डिप्टी मेयर ने किया। इस मौके पर मेयर श्रीमती शंकर ने कहा कि नगर निगम को सजाने संवारने और बेहतर बनाने में सबों का सहयोग जरूरी है। हम सब गौरवांवित हैं कि पलामू पत्रकारिता जगत के उन विभूतियों को सम्मान देकर , जिन्होंने समाज को बहुत कुछ दिया। उन्होंने कहा कि स्व रामेश्वरम व स्व रूबी सर राष्ट्रीय स्तर  के पत्रकार थे।

इन्होंने पत्रकारिता के साथ समाजिक कार्य में भी इनके अतुलनीय योगदान को भुलाया नहीं जा सकता। दिवंगत पत्रकारों के सम्मान में परिषद की ओर से किया गया यह पहल सराहनीय है। डिप्टी मेयर मंगल सिंह ने कहा कि दोनों सड़कों के नामकरण के बाद निगम की ओर से इसे सजाने संवारने की दिशा में भी पहल किया जायेगा। कार्यक्रम की अध्यक्षता पलामू पत्रकार परिषद के अध्यक्ष ब्रजेश तिवारी व संचालन महासचिव सत्येंद्र कुमार मिश्रा ने किया। धन्यवाद ज्ञापन परिषद के कार्यकारी अध्यक्ष दिलीप कुमार द्वारा किया गया। इस मौके पर रामेश्वरम के पुत्र इषुमान के साथ पत्रकार अविनाश समेत अन्य लोग उपस्थित थे।

Check Also

जब राजनीति विज्ञान से प्रोफ़ेसर बना जा सकता है तो +2 शिक्षक क्यों नहीं ?

🔊 Listen to this राज्य के +2 विद्यालयों में राजनीति विज्ञान शिक्षक को शामिल करने …