Breaking News

महामारी को रोकने के लिए तुरंत सरकार मिनी लॉकडाउन करे : विजय शंकर नायक

झारखंड सूचना अधिकार मंच के केंद्रीय अध्यक्ष विजय शंकर नायक ने साफ शब्दों में कहा कि 8 घंटे 9 अस्पताल का चक्कर लगाने के बाद महज एक भेद नहीं मिलने से झारखंड के प्रख्यात शिक्षाविद साहित्यकार वह संस्कृति कर्मी गिरधारी राम गोंझू की एवं आम जनों की हो रही मौत ने स्वास्थ्य विभाग का पोल खोल कर रख दिया है ऐसे में महामारी को रोकने के लिए तुरंत सरकार मिनी लॉकडाउन करें।
श्री नायक ने यह भी कहा कि आज झारखंड की आम खास जनता स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही की शिकार बनती जा रही है कभी बेड के अभाव में कभी डॉक्टर के अभाव में कभी समुचित इलाज के अभाव में कभी कोरोना के बैठ लोग व्यस्त रहने के कारण दम तोड़ने को मजबूर हैं स्वास्थ्य मंत्री के सामने स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही उजागर हो रही है मगर स्वास्थ्य मंत्री के कानों में जूं तक नहीं रेंग रहा है जो राज्य की जनता के लिए चिंता का विषय है। आज करो नाराज में भयावह रूप धारण कर चुका है आम जनता डरी हुई है आज करीब करीब प्रत्येक घर में एक ना एक कोई कोई तो पूरा घर संक्रमण का शिकार है जो अपने बलबूते संक्रमण से मुक्ति पाने के लिए अपने सीमित संसाधनों के बदौलत संघर्ष करने को मजबूर है इस लड़ाई में स्वास्थ्य विभाग आम जनों के हित में कहीं खड़ी नजर नहीं आ रही है जो आक्रोश का विषय है।
श्री नायक ने राज्य के मुख्यमंत्री श्री हेमंत सोरेन से राज की जनता के हित में यह मांग किया कि बढ़ते कोरोना के भयावह स्थिति को देखते हुए राज्य में निम्नलिखित बिंदुओं पर अति शीघ्र निर्णय लें ताकि राज की जनता को भी मौत मरने से बचाया जा सके और संक्रमण उन्हें बचाया जा सके।
1- राज के सभी स्टेडियमों को कोविड-19 अस्पताल के रूप में परिवर्तित कर हजारों हजार बेड से सूसुजजित करें और करोना से लड़ने एवम् जान बचाने के लिए आइसोलेशन बेड, ऑक्सीजन सपोर्टेड बेड ,आईसीयू बेड विद बीआईपीएपी ,आईसीयू बेड एचएफएनसी वेंटिलेटर बेड तथा समुचित डॉक्टर नर्स की व्यवस्था एवं आधारभूत संरचना का निर्माण करें अगर डॉक्टरों नर्सों की कमी आती है तो सेना के डॉक्टरों नर्सों को विशेष परिस्थिति में पदस्थापन किया जाए मगर किसी भी हालत में अब बेड के अभाव में कोई दम न तोड़े इसकी समुचित व्यवस्था की जाए।
2- राज के सभी विद्यालयों एवं हवाई अड्डा रेलवे स्टेशनों बस डिपो में करोना की जांच खासकर एंटीजेन ज्यादा से ज्यादा कराया जाए और rt-pcr के बैकलॉग को तुरंत समाप्त करने की दिशा में जल्द से जल्द कदम उठाया जाए ताकि सही समय पर लोगों की जांच का फलाफल मिल सके और वह कम से कम लोगों को संक्रमित करने से बच सके और अपनी जान बचा सके एवं करो ना के आपत्कालीन दवा रेमडीसीवीर एवं अन्य जीवन रक्षक दवाइयों की उपलब्धता को शत-प्रतिशत सुनिश्चित किया जाए और करोना से संबंधित जीवन रक्षक दवाइयों डिटॉल एवं अन्य चीजों की हो रही कालाबाजारी पर रोक लगाने हेतु आवश्यक ठोस कार्रवाई की जाए।
3-झारखंड में सभी तरह के परीक्षा को स्थगित किया जाए।

Check Also

जब राजनीति विज्ञान से प्रोफ़ेसर बना जा सकता है तो +2 शिक्षक क्यों नहीं ?

🔊 Listen to this राज्य के +2 विद्यालयों में राजनीति विज्ञान शिक्षक को शामिल करने …