Breaking News

सांसदों-विधायकों द्वारा प्रदत्त एंबुलेंस निःशुल्क सेवा में लगाएं : सुबोधकांत सहाय

रांची। पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय ने कहा है कि वैश्विक महामारी कोरोना के बढ़ते प्रकोप पर काबू पाने के लिए सामुहिक सहभागिता जरूरी है। उन्होंने कहा कि शहर स्थित विभिन्न अस्पतालों और स्वयंसेवी संस्थाओं को पीड़ित मानवता के सेवार्थ जनप्रतिनिधियों द्वारा एंबुलेंस प्रदान किया गया है। फिलहाल सभी संस्थाओं को कोरोना के मरीजों के लिए निःशुल्क एंबुलेंस सेवा देने के लिए आगे आने की जरूरत है। रांची शहर में कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए कई संस्थाओं ने इस दिशा में कदम बढ़ाया है, यह सराहनीय है। उन्होंने कहा कि उनके कार्यकाल के दौरान संसदीय क्षेत्र अंतर्गत विभिन्न संस्थाओं को जनसेवा के लिए एंबुलेंस दिया गया।

वैसे सभी संस्थाओं से उन्होंने मानव सेवा के तहत संकट की इस घड़ी में नि:शुल्क सेवाएं उपलब्ध कराने की अपील की है। उन्होंने कहा कि मानव सेवा से बड़ा कोई धर्म नहीं है। श्री सहाय ने कहा कि उन्हें यह जानकारी मिली है कि कोरोना संक्रमित मरीजों से कुछ निजी अस्पताल संचालक मनमानी राशि ऐंठ रहे हैं।

यह मानवता विरोधी कृत्य है। उन्होंने स्वयंसेवी संस्थाओं, कांग्रेस कार्यकर्ताओं सहित अन्य सामाजिक संगठनों से जुड़े समाजसेवियों से आपदा के समय नि:स्वार्थ भाव और दलगत राजनीति से ऊपर उठकर मानव सेवा के लिए आगे आने की अपील की है। उन्होंने कहा कि संपूर्ण मानवता एक गंभीर आपदा से जूझ रही है। चहुंओर आशंका और उदासी का माहौल है। ऐसे में पीड़ित मानवता की सेवा में समर्पित भाव से जुड़ें।
उन्होंने आमजन से भी संयमित रहते हुए इस वैश्विक महामारी के खिलाफ लड़ाई में सहभागिता निभाने की अपील की।

Check Also

जब राजनीति विज्ञान से प्रोफ़ेसर बना जा सकता है तो +2 शिक्षक क्यों नहीं ?

🔊 Listen to this राज्य के +2 विद्यालयों में राजनीति विज्ञान शिक्षक को शामिल करने …