Breaking News

डॉ जनार्दन प्रसाद का कोरोना से निधन

  • शिक्षा जगत के लिए अपूरणीय क्षति: राजेंद्र प्रसाद

रांची। मूलवासी सदन मोर्चा के केंद्रीय अध्यक्ष राजेंद्र प्रसाद ने शिक्षाविद् व गोस्सनर कॉलेज के इंग्लिश पूर्व विभागाध्यक्ष और मूलवासी सदान मोर्चा के सलाहकार प्रोफेसर डॉ जनार्दन प्रसाद के निधन पर दुख व्यक्त करते हुए कहा परमात्मा दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करें और इस दुख को सहने की शक्ति उनके परिवार को दें। प्रसाद ने कहा डॉ जनार्दन प्रसाद सिमडेगा के एक छोटे से गांव में जन्मे और रांची में आकर पढ़ाई की और गोस्सनर कॉलेज में प्रोफेसर के रूप में अपना योगदान दिया वे इंग्लिश विभाग के पूर्व विभागाध्यक्ष थे।

प्रसाद ने कहा कि डॉ जनार्दन प्रसाद एक मिलनसार और एक नेक इंसान थे। उन्होंने बताया कि जनवरी 2021 में उनके द्वारा लिखी गई किताब “लव इज वेयर द हार्ट इज” का विमोचन एक समारोह में वे स्वयं किया था। प्रसाद ने कहा इसके अलावा डॉ जनार्दन प्रसाद ने और दो किताब लिख चुके हैं। जिसमें द म्यूसि्ंग ऑफ अ प्रोफेसर और द प्रिसमैटिक कलर्स शामिल है। प्रसाद ने डॉ जनार्दन प्रसाद के निधन को शिक्षा जगत और सदानों के लिए अपूरणीय क्षति बताया है । डॉ जनार्दन प्रसाद के आकस्मिक निधन पर झारखंड के कई शिक्षाविदों और कलाकारों ने भी शोक व्यक्त किया है ।झारखंड के कवि और गीतकार क्षितीश कुमार राय, डॉ रामप्रसाद, डॉ अनिल मिश्रा, डॉ सुदेश कुमार साहू ,डॉ उमेश तिवारी, डॉ श्रीमती शकुंतला मिश्रा,डॉ प्रभात कुमार ,विशाल कुमार सिंह, आदि ने भी दुःख व्यक्त किया।

Check Also

जब राजनीति विज्ञान से प्रोफ़ेसर बना जा सकता है तो +2 शिक्षक क्यों नहीं ?

🔊 Listen to this राज्य के +2 विद्यालयों में राजनीति विज्ञान शिक्षक को शामिल करने …