Breaking News

माेदी ने LoC से LAC तक सेना ने आंख दिखाने वालों को दिया मुंहतोड़ जवाब

नई दिल्ली। देश के 74 वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लाल किले के प्राचिर से देश को संबोधित करते हुए कहा कि पीएम मोदी ने कहा कि भारत की संप्रभुता का सम्मान हमारे लिए सर्वोच्च है। इस संकल्प के लिए हमारे वीर जवान क्या कर सकते हैं, देश क्या कर सकता है, ये लद्दाख में दुनिया ने देखा है।पीएम ने कहा कि लेकिन LOC से लेकर LAC तक देश की संप्रभुता पर जिस किसी ने आंख उठाई है, देश ने, देश की सेना ने उसका उसी भाषा में जवाब दिया है। पीएम मोदी ने कहा कि भारत के जितने प्रयास शांति और सौहार्द के लिए हैं, उतनी ही प्रतिबद्धता अपनी सुरक्षा के लिए और अपनी सेना को मजबूत करने की है। पीएम ने कहा कि भारत अब रक्षा उत्पादन में आत्मनिर्भरता के लिए भी पूरी क्षमता से जुट गया है।

नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन। नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन, भारत के हेल्थ सेक्टर में नई क्रांति लेकर आएगा

इससे पहले पीएम ने कहा कि देश के वैज्ञानिक कोरोना की वैक्सीन बनाने में जुटे हुए हैं। पीएम ने कहा कि आज भारत में कोराना की एक नहीं, दो नहीं, तीन-तीन वैक्सीन इस समय टेस्टिंग के चरण में हैं। जैसे ही वैज्ञानिकों से हरी झंडी मिलेगी, देश की तैयारी उन वैक्सीन की बड़े पैमाने पर उत्पादन की है। जब कोरोना शुरू हुआ था तब देश में टेस्टिंग के लिए सिर्फ एक लैब थी।

आज देश में 1,400 से ज्यादा लैब हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि से देश में एक और बहुत बड़ा अभियान शुरू होने जा रहा है। ये है नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन। नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन, भारत के हेल्थ सेक्टर में नई क्रांति लेकर आएगा। उन्होंने कहा कि आपके हर टेस्ट, हर बीमारी, आपको किस डॉक्टर ने कौन सी दवा दी, कब दी, आपकी रिपोर्ट्स क्या थीं, ये सारी जानकारी इसी एक हेल्थ कार्ड में समाहित होगी।

 

वोकल फॉर लोकल आत्मनिर्भर अर्थव्यवस्था का संचार करेगा

स्वतंत्रता दिवस पर देश को संबोधित करते हुए कहा कि वोकल फॉर लोकल, री-स्किल और अप-स्किल का अभियान, गरीबी की रेखा के नीचे रहने वालों के जीवनस्तर में आत्मनिर्भर अर्थव्यवस्था का संचार करेगा। देश के जो 40 करोड़ जनधन खाते खुले हैं, उसमें से लगभग 22 करोड़ खाते महिलाओं के ही हैं। कोरोना के समय में अप्रैल-मई-जून, इन तीन महीनों में महिलाओं के खातों में करीब-करीब 30 हज़ार करोड़ रुपए सीधे ट्रांसफर किए गए हैं। देश के जो 40 करोड़ जनधन खाते खुले हैं, उसमें से लगभग 22 करोड़ खाते महिलाओं के ही हैं।

कोरोना के समय में अप्रैल-मई-जून, इन तीन महीनों में महिलाओं के खातों में करीब-करीब 30 हज़ार करोड़ रुपए सीधे ट्रांसफर किए गए हैं। आज से देश में एक और बहुत बड़ा अभियान शुरू होने जा रहा है। ये है नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन। नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन, भारत के हेल्थ सेक्टर में नई क्रांति लेकर आएगा।

अगले 1000 दिनों में लक्षद्वीप को सबमरिन ऑप्टिकल फाइबर केबल से भी जोड़ा जाएगा

पीएम मोदी ने कहा कि हमारे देश में 1300 से अधिक द्वीप हैं। उनकी भौगोलिक स्थिति और राष्ट्र के विकास में उनके महत्व को ध्यान में रखते हुए, इनमें से कुछ द्वीपों में नई परियोजनाएं शुरू करने का काम चल रहा है। अगले 1000 दिनों में, लक्षद्वीप को सबमरिन ऑप्टिकल फाइबर केबल से भी जोड़ा जाएगा।

देश में एनसीसी का विस्तार होगा

पीएम मोदी ने कहा कि अब देश में एनसीसी(NCC) का विस्तार किया जाएगा। एनसीसी को देश के 173 सीमाओं और तटीय जिलों तक सुनिश्चित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस अभियान के तहत करीब 1 लाख नए एनसीसी कैडेट को विशेष ट्रेनिंग दी जाएगी। इसमें भी करीब एक तिहाई बेटियों को ये स्पेशल ट्रेनिंग दी जाएगी।

लद्दाख आज विकास की नई ऊंचाइयों को छूने के लिए आगे बढ़ रहा

पीएम मोदी ने कहा कि लोकतंत्र की सच्ची ताकत स्थानीय इकाइयों में है। हम सभी के लिए गर्व की बात है कि जम्मू-कश्मीर में स्थानीय इकाइयों के जनप्रतिनिधि सक्रियता और संवेदनशीलता के साथ विकास के नए युग को आगे बढ़ा रहे हैं। बीते साल लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश बनाकर, वहां के लोगों की बरसों पुरानी मांग को पूरा किया गया है।

 

हिमालय की ऊंचाइयों में बसा लद्दाख आज विकास की नई ऊंचाइयों को छूने के लिए आगे बढ़ रहा है। यह एक वर्ष जम्मू-कश्मीर के लिए विकास की नई यात्रा का वर्ष है। यह एक वर्ष जम्मू और कश्मीर में महिलाओं और दलितों को मिले अधिकारों का वर्ष है। यह एक साल जम्मू-कश्मीर में शरणार्थियों के लिए सम्मान की जिंदगी का साल भी है। जम्मू-कश्मीर में परिसीमन की कवायद की जा रही है। देश इस काम को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध है ताकि वहां चुनाव हो और लोगों के प्रतिनिधि चुने जाएं।

आत्मनिर्भर भारत की एक अहम प्राथमिकता- आत्मनिर्भर कृषि और आत्मनिर्भर किसान

पीएम मोदी ने इससे पहले कहा कि एक समय था, जब हमारी कृषि व्यवस्था बहुत पिछड़ी हुई थी। तब सबसे बड़ी चिंता थी कि देशवासियों का पेट कैसे भरें। आज हम सिर्फ भारत ही नहीं, दुनिया के कई देशों का पेट भर सकते हैं। किसानों ने कृषि क्षेत्र में भारत को आत्मनिर्भर बना दिया है। आत्मनिर्भर भारत की एक अहम प्राथमिकता है – आत्मनिर्भर कृषि और आत्मनिर्भर किसान। किसान को तमाम बंधनों से मुक्त करना हो वो काम हमने कर दिया है।

Check Also

लोधमा में कलश यात्रा निकाली गई, हजारों श्रद्धालु हुए शामिल

🔊 Listen to this   8 से 12 जुलाई तक़ महायज्ञ का होगा अनुष्ठान रजरप्पा(रामगढ़)lरामगढ़ …