Breaking News

डीजीपी नियुक्ति पर झारखंड सरकार व यूपीएससी में ठनी, सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई पर टिकी नजर

रांची। झारखंड सरकार और संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) में ठन गई है। दोनों एक-दूसरे को कायदे-कानून बताने में लगे हुए हैं। वजह है राज्य के डीजीपी पद से कमल नयन चौबे को हटाना। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार किसी भी राज्य में दो साल के लिए डीजीपी की नियुक्ति होनी है, लेकिन केएन चौबे को राज्य सरकार ने महज नौ माह में हटा दिया।

और तो और उनकी जगह एमवी राव को प्रभारी डीजीपी नियुक्त कर दिया, जबकि नियमत: इस पद को प्रभार में नहीं रखा जा सकता। यह विवाद देश की सर्वोच्च अदालत में पहुंच गया है। एक याचिकाकर्ता प्रह्लाद नारायण सिंह ने केएन चौबे को पद से हटाने और प्रभारी डीजीपी नियुक्त करने को गलत बताते हुए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है।

अदालत ने इस मामले में केंद्र व राज्य सरकार, यूपीएससी और एमवी राव से उनका पक्ष रखने को कहा है। मामले की सुनवाई बुधवार को होनी है। इस पर किस कदर बेचैनी है यह इससे समझा जा सकता है कि सुनवाई के दो दिनों पूर्व एमवी राव दिल्ली चले गए हैं। वहां अपने वकील से परामर्श में लगे हैं।

पैनल पर विचार करने से यूपीएससी का इन्कार

प्रभारी डीजीपी एमवी राव को स्थायी करने के लिए राज्य सरकार ने पांच आइपीएस अधिकारियों का पैनल यूपीएससी को भेजा था। यूपीएससी ने यह कहते हुए इसे वापस कर दिया कि राज्य की ओर से पूर्व में भेजे गए पैनल के आधार पर राज्य ने कमल नयन चौबे को नियमत: दो साल के लिए नियुक्त किया था, लेकिन उन्हें नौ महीने में ही हटा दिया। यह सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइंंस का उल्लंघन है, इसलिए नए पैनल पर विचार नहीं किया जा सकता है।

यहां यह उल्लेखनीय है कि जिस पैनल के आधार पर कमल नयन चौबे का चयन किया गया था उसमें एमवी राव का नाम ही नहीं था। नियमत: यूपीएसी पैनल में तीन नामों को डीजीपी पद के लिए प्रस्तावित करती है उसमें से किसी एक को चुनने का अधिकार राज्य का होता है। पैनल के बाहर के किसी भी अधिकारी को डीजीपी बनाने का मतलब है यूपीएससी और सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइंस का खुलेआम उल्लंघन करना।

राज्य सरकार ने यूपीएससी को बताया अधिकार क्षेत्र

राज्य सरकार ने यूपीएससी को दिए जवाब में बताया है कि नई सरकार गठित होने के बाद कमल नयन चौबे को तीन महीने का पर्याप्त समय दिया गया था, ताकि वे विधि-व्यवस्था संभाल लें, लेकिन वे विफल रहे। इसी वजह से उन्हें डीजीपी के पद से हटाया गया। साथ ही यूपीएससी के अधिकार क्षेत्र पर सवाल उठाते हुए जवाब भेजा है कि डीजीपी कौन रहेगा, यह राज्य सरकार तय करती है न कि यूपीएससी।

Check Also

सीएम चंपाई सोरेन और कल्पना समेत कई नेता होंगे झामुमो के स्टार प्रचारक

🔊 Listen to this राजद की लिस्ट में तेजप्रताप और तेजस्वी के नाम रांचीlलोकसभा चुनाव …