Breaking News

दो दिवसीय राष्ट्रीय हड़ताल से मनरेगा पर पड़ा असर : नरेश सिन्हा

  • मनरेगा मजदुरों को कार्य उपलब्ध कराने में 60 से 70 फीसदी गिरावट

जामताड़ा। हड़ताली मनरेगा कर्मियों का आज 32 वां दिन है। कर्मचारी संघ हड़ताल पर डटे हुए हैं।आज जामताड़ा गाँधी मैदान में हड़ताली कर्मचारियों ने बैठक की।आज के धरना को संबोधित करते हुए नाला बीपीओ प्रदीप टोप्पो ने कहा कि झारखंड राज्य मनरेगा कर्मचारी संघ की अनिश्चितकालीन हड़ताल का आज 32 वा दिन जारी है। अखिल भारतीय मनरेगा कर्मी संघ दिल्ली के समर्थन से हमारी लड़ाई अब राष्ट्रव्यापी आंदोलन का रूप ले लिया है।

कलम बंद हड़ताल का आज दूसरा दिन

जिला संघ के संरक्षक तरुण मंडल व जिला अध्यक्ष नरेश सिन्हा ने संयुक्त रुप से कहा की दो दिवसीय राष्ट्रीय कलम बंद हड़ताल का आज दूसरा दिन है। देशभर के मनरेगा कर्मी कलम बंद सांकेतिक हड़ताल में रहने के कारण सभी राज्यों में मनरेगा कार्य प्रभावित है। संघ ने कहा की मनरेगा कर्मी की नियुक्ति सृजित पद के आलोक में हुई है। सरकार सुप्रीम कोर्ट का आदेश का पालन करें। समान काम का समान वेतन दे। हमारी सेवा नियमित करें। समान सेवा नियमावली बने। ग्रेड पे लागू हो। अकारण बर्खास्त पर रोक लगे। कहा एक महीने की हड़ताल अवधि में प्रदेश के वास्तविक मनरेगा मजदूरों को कार्य उपलब्ध कराने में 60 से 70 प्रतिशत की गिरावट आई है। सरकार भुगतान एमआईएस रिपोर्ट को देखें तो वास्तविक मजदूरों का डिमांड नहीं होने के कारण मानव दिवस सूजन में व्यापक गिरावट आया है। भुगतान में कमी आई है। सिर्फ फर्जी डिमांड का ग्राफ बढ़ा है, जिसे विभागीय तंत्र सरकार व मनरेगा कर्मी को बेवकूफ बना रही है।

आंकड़ा दिखाने के लिए फर्जी डिमांड कराया जा रहा है

संघ के नेतृत्व कर्ताओं ने कहा की एक रिपोर्ट के मुताबिक हड़ताल के पूर्व पूरे प्रदेश में मनरेगा कर्मी द्वारा कुल 95 लाख मानव दिवस का सृर्जन कीया गया था। जबकि हड़ताल अवधि के एक माह में मात्र 27 लाख मानव दिवस का सर्जन हुआ है। उन्होंने कहा कि इस 70 प्रतिशत मानव दिवस सृजन के गिरावट से स्पष्ट होता है कि विभाग के दबाव में अधीनस्थ कर्मचारी पदाधिकारी के द्वारा केवल आंकड़ा दिखाने के लिए फर्जी डिमांड कराया जा रहा है। कहा कि झारखंड राज्य मनरेगा कर्मचारी संघ के हड़ताल से मनरेगा योजना पर इनके सभी कार्यों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है।विभाग के वैकल्पिक व्यवस्था पूर्णत विफल हो गया है। उन्होंने कहा हमारे राष्ट्रव्यापी दो दिवसीय आंदोलन में भारत वर्ष के 6 लाख मनरेगा कर्मी के कलम बंद हड़ताल से मनरेगा कार्यों में व्यापक असर पड़ा है। धरना पर ऋषि राज कुमार,अमरिंदर सिंह,नीती सरिता मिंज,दुलाल मंडल, उमेश हेम्ब्रम, नगमा बानो, कुंदन कुमार,जितेंद्र टूडू सहित अनेको मौजूद थे।

Check Also

उपायुक्त की अध्यक्षता में हुई कृषि प्रौद्योगिकी प्रबंधन अभिकरण (आत्मा) की शासकीय निकाय की बैठक

🔊 Listen to this कृषि के क्षेत्र में उपज में वृद्धि हेतु नए तकनीकों का …