Breaking News

भारत का आत्मनिर्भर रक्षा क्षेत्र पूरे हिंद महासागर क्षेत्र के लिए अहम : मोदी

नई दिल्ली। रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भरता के लिए 101 रक्षा उपकरणों के आयात पर रोक लगाकर उसे स्वदेश में ही निर्मित करने के फैसले के बाद ऐसी दूसरी सूची पर भी काम शुरू हो गया है। आयात पर प्रतिबंध लगाने वाली अगली सूची में ज्यादा एडवांस रक्षा उपकरण शामिल हो सकते हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसका संकेत देते हुए इसके राष्ट्रीय और वैश्विक प्रभाव का भी इजहार किया।

नेट सिक्योरिटी प्रोवाइडर के रूप में भारत की स्थिति मजबूत होगी

उन्होंने कहा कि इससे जहां भारत की शक्ति बढ़ेगी, देश में उद्योग और रोजगार बढ़ेगा, वहीं पूरे हिंद महासागर क्षेत्र मे नेट सिक्योरिटी प्रोवाइडर के रूप में भारत की स्थिति मजबूत होगी और पड़ोसी देशों को रक्षा उपकरण प्रदाता के रूप में भारत स्थापित होगा। दक्षिण चाइनी सी में चीन की बढ़ती भूमिका के मद्देनजर प्रधानमंत्री का यह बयान अहम है। उद्योग जगत और सरकार के बीच संवाद बनाने के लिए आयोजित ‘आत्मनिर्भर भारत डिफेंस इंडस्ट्री आउटरीच’ जैसे पहले वेबीनार को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकारों पर भी निशाना साधा।

प्रधानमंत्री ने कांग्रेस काल पर भी साधा निशाना

उन्होंने कहा कि जब भारत आजाद हुआ था तो देश ने सौ साल से भी ज्यादा समय से स्थापित रक्षा उत्पादन का इको सिस्टम था। लेकिन कभी इस पर ध्यान नहीं दिया गया। हमारे बाद शुरू करने वाले देश आगे निकल गए लेकिन भारत आयातक बन गया। दशकों तक आर्डनेंस फैक्ट्री को सरकारी विभाग की तरह चलाया गया। लेकिन अब बदलाव शुरू हुआ है। ध्यान रहे कि राफेल के वक्त कांग्रेस की ओर से एचएएल को ठेका न दिए जाने को मुद्दा बनाते हुए आरोप लगाया गया था।

Check Also

सितंबर से चालू हो जाएगा कांटाटोली फ्लाईओवर

🔊 Listen to this नगर विकास एवं आवास विभाग के सचिव अरवा राजकमल ने जुडको …