Breaking News

श्री दिगंबर जैन मंदिरों में श्री दशलक्षण महापर्व के छठे दिन उत्तम संयम धर्म की हुई पूजा

प्राणी रक्षण और इंद्रिय दमन करना संयम धर्म है

रामगढ़ । श्री दिगंबर जैन मंदिर एवं श्री पारसवनाथ जिनालय मै दशलक्षण पर्व के छठा दिन उत्तम संयम धर्म धर्म का पूजा पुरे विधि विधान के साथ किया गया।पंडित सुदेश जी जैन पूरे विधि विधान से पूजा कराया। श्री दशलक्षण महापर्व के छठे दिन जलाभिषेक एवं शांति धारा दोनों मंदिरों में श्रीमती अमराव देवी पाटनी माणिक जैन पाटनी एवं उनके परिवार के द्वारा कराया गया।

मंदिरों में छठे दिन उत्तम संयम धर्म की हुई पूजा

स्पर्शन, रसना, घ्राण, नेत्र, कर्ण और मन पर नियंत्रण (दमन, कन्ट्रोल) करना इन्द्रिय-संयम है। पृथ्वीकाय, जलकाय, अग्निकाय, वायुकाय, वनस्पतिकाय और त्रसकाय जीवों की रक्षा करना प्राणी संयम है। इन दोनों संयमों में इन्द्रिय संयम मुख्य है।क्योंकि इन्द्रिय संयम प्राणी संयम का कारण है।इन्द्रिय संयम होने पर भी प्राणी संयम होता हैं। बिना इन्द्रिय संयम के प्राणी संयम नहीं हो सकता।

इन्द्रियाँ बाह्म पदार्थों का ज्ञान कराने में कारण है। इस कारण तो वे आत्मा के लिये लाभदायक हैं।क्योंकि संसारी आत्मा इन्द्रियों के बिना पदार्थों को जान नहीं सकता। पँचेन्द्रिय जीव की यदि नेत्र-इन्द्रिय बिगड़ जावे तो देखने की शक्ति रखने वाला भी आत्मा किसी वस्तु को देख नहीं सकता।

सारा सँसार इन्द्रियों का दास बना हुआ है

परंतु इन्द्रियाँ अपने-अपने विषयों की ओर आत्मा तो आकृष्ट (खींच) करके पथभ्रष्ट कर देती हैं।आत्मविमुख करके आत्मा को अन्य सांसारिक भोगों में तन्मय कर देती हैं। हित करके विवेक शून्य कर डालती हैं।जिससे कि साँसारिक आत्मा बाह्म-दृष्टि बन कर अपने फँसने के लिये स्वयं कर्मजाल बनाया करता है। इन्द्रियों का यह कार्य आत्मा के लिये दुख दायक है। सारा सँसार इन्द्रियों का दास बना हुआ है। बड़े-बड़े बलवान योद्धा और विचारशील विद्वान भी इन्द्रियों के गुलाम बने हुए हैं।अपना अधिकतर समय इन्द्रियों को तृप्त करने में लगाया करते हैं।हाथी कितना बलवान प्राणी है किंतु कामातुर होकर स्पर्शन इन्द्रियों को तृप्त करने के लिये मनुष्य के जाल में फँस जाता है।

इस तरह स्पर्शन इन्द्रियों के वश में होकर कामातुर मनुष्य भी आत्म गौरव, धन, कीर्ति बल पराक्रम नष्ट भ्रष्ट करके सर्वस्व गँवा देते हैं। प्राण तक अर्पण कर देते हैं।जलाभिषेक अवेम शांतिधारा -दोनो मंदिर मे श्रीमति श्रीमती अमराव देवी पाटनी श्री मानिक जैन पाटनी अवेम उनके परिवार के द्वारा क्या गया।मीडिया प्रभारी राहुल जैन ने बताया कल उत्तम तप धर्म का पूजा किया जायेगा।

Check Also

BJP के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रघुवर दास ने की बाबाधाम में पूजा, हेमंत सरकार पर साधा निशाना

🔊 Listen to this मौके पर पूर्व श्रम नियोजन मंत्री राज पालिवार और बीजेपी के …