Breaking News

श्री दिगंबर जैन मंदिर और पारसनाथ जिनालय में मोक्ष सप्तमी का पर्व धूमधाम से मनाया गया

रामगढ़। श्री दिगंबर जैन मंदिर रामगढ़ और श्री पारसनाथ जिनालय रांची रोड मे मोक्ष सप्तमी का पर्व बड़े धूम धाम से बनाया गया।सर्वप्रथम भगवान पारसनाथ का जलाभिषेक,आवे शांतिधारा किया गया। प्रथम जलाभिषेक विनय कुमार जैन 

शांतिधारा सुनील पुष्पा काला,जसपुर वाले लड्डू चराने का शोभाग्य सुरेश सेठी सपरिवार को मिला ।
आज 4 अगस्त बुधवार को जैन धर्म के 23वें तीर्थकर भगवान् श्री पार्श्वनाथ के मोक्ष कल्याण दिवस के रूप में मनाया जाता है। आज के दिन ही उन्हें मोक्ष की प्राप्ति हुई थी।इसलिए जैन धर्म में इस दिन को विशेष महत्व दिया जाता है। जैन धर्म के अनुयायी इस दिन को मोक्ष सप्तमी महोत्सव के रूप में भी मनाते हैं। आज हम आपको मोक्ष सप्तमी के महत्व और इस दिन किये जाने वाले पूजा विधि के बारे में बताने जा रहे हैं। आइये जानते हैं आखिर कौन थे भगवान् पार्श्वनाथ और क्यों इस दिन को विशेष महत्व दिया जाता है।

मोक्ष सप्तमी का महत्व

जैन धर्म की मान्यताओं के अनुसार सावन माह के शुक्ल पक्ष सप्तमी के दिन ही जैन धर्म के 23वें तीर्थकर भगवान् पार्श्वनाथ को मोक्ष की प्राप्ति हुई थी। इसलिए इस दिन को उनके मोक्ष कल्याण दिवस के रूप में मनाया जाता है। बता दें कि इस दिन को जैन धर्म के दिगंबर और श्वेताम्बर दोनों अनुयायी जैन मंदिरों में जाकर उनकी पूजा अर्चना करते हैं। इस दौरान ख़ास मंत्रों का उच्चारण किया जाता है और भगवान् पार्श्वनाथ का अभिषेक कर सुख शांति की कामना की जाती है। इस दिन जैन धर्म को मानने वाले सभी लोग एक समूह में एकत्रित होकर विशेष पूजा करते हैं।
जैन धर्म में मोक्ष प्राप्त करने को ख़ासा महत्वपूर्ण माना जाता है कि जैन धर्म में विशेष रूप से मोक्ष प्राप्ति को ख़ासा महत्वपूर्ण माना जाता है। ऐसी मान्यता है कि मोक्ष की प्रति होना जीवन का सार्थक होना माना जाता है। जैन धर्म के अनुसार जब तक मनुष्य इस संसार में जीवित रहता है तब तक उसे कोई ना कोई चिंता जरूर सताती है और ऐसे में मोक्ष का कोई अर्थ नहीं रह जाता। लेकिन जब किसी को पूर्णतया मोक्ष की प्राप्ति हो जाती है तो उसके जीवन का अर्थ सार्थक हो जाता है। इस मान्यता के साथ जैन धर्म के अनुयायी इस दिन को मोक्ष सप्तमी के रूप में मनाते हैं।

विशेष पूजा अर्चना के साथ मनाया जाता है इस महोत्सव को

जैन धर्म में इस दिन विशेष रूप से भगवान् पार्श्वनाथ के समक्ष निर्वाण काण्ड के सामूहिक उच्चारण के बाद निर्वाण लाडू चढ़ाने की प्रथा है। इस दिन निर्वाण लाडू या लड्डू चढ़ाना इसलिए आवश्यक माना जाता है क्योंकि जैन धर्म में ऐसी मान्यता है कि जिस तरह से लड्डू रस से भड़ा होता है उसी प्रकार से मनुष्य की आत्मा भी यदि पवित्र रसों से भर जाए तो उसे परमात्मा की प्राप्ति करने में देर नहीं लगती

मोके पर समाज अध्यक्ष श्री रमेश सेठी, सचिव विनोद जैन, पारसनाथ जिनालय समिति के सचिव नीरज सेठी, प्रबंधक राजू सेठी,
समाज के वरीय सदस्य श्री मानिक जैन, जीवन मल पाटनी, ललित चूड़ीवाल, राजेंद्र पाटनी, बिमल सेठी, संजय जैन, अशोक चूड़ीवाल,संजय सेठी विकाश रापड़िया, अरविन्द सेठी, पदम चंद छाबड़ा, अशोक सेठी, अमित काला, प्रदीप पाटनी, राजेंद्र चूड़ीवाल, निशांत सेठी, बबलू सेठी, रितेश सेठी, प्रवीण पाटनी, सुभाष पाटनी, नरेंद्र छाबड़ा, बीरेंद्र गंगवाल, बंटी सेठी, पिंकू सेठी, शैलेश सेठी, विनोद सेठी, मिथलेश जैन गुणमाला सेठी, बबिता सेठी, बीना सेठी, पाण सेठी, मीना सेठी, संगीता सेठी, मीना पाटनी, सरला जैन, कुसुम पाटनी, रेणु चूड़ीवाल, उषा अजमेरा, उषा सेठी, रीना जैन, अनीता चूड़ीवाल आदि लोग उपस्थित थे।

 

Check Also

सितंबर से चालू हो जाएगा कांटाटोली फ्लाईओवर

🔊 Listen to this नगर विकास एवं आवास विभाग के सचिव अरवा राजकमल ने जुडको …