Breaking News

वैश्य मोर्चा ने विधानसभा के समक्ष किया वादा खिलाफी महाधरना

वैश्य-पिछड़ों की उपेक्षा पर जताया रोष

रांचीओबीसी को 27% आरक्षण, वैश्य आयोग का गठन, जाति आधारित जनगणना कराने, वैश्यों की हो रही उपेक्षा एवं हत्या के खिलाफ झारखंड प्रदेश वैश्य मोर्चा ने आज 4 अगस्त को विधानसभा (रांची) के समक्ष वादा खिलाफी महाधरना का आयोजन किया।महाधरना के पाश्चात्य मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन एवं महामहिम राज्यपाल को मांगों से संबंधित स्मार-पत्र दिया गया।इस कार्यक्रम की अध्यक्षता वैश्य मोर्चा के केंद्रीय अध्यक्ष महेश्वर साहु एवं संचालन प्रधान महासचिव बीरेन्द्र कुमार व उप-प्रधान महासचिव इंदुभूषण गुप्ता ने संयुक्त रूप से किया।
महाधरना को संबोधित करते हुए सभी वक्ताओं ने एक स्वर में कहा कि राज्य सरकार वैश्यों के साथ उपेक्षा की नीति अपना रही है। यह वैश्य समाज के साथ घोर अन्याय है।वक्ताओं ने कहा कि अगर हमारी मांगें पूरी नहीं की जाती है तो संघर्ष को और तेज किया जाएगा। 9 अगस्त को रामगढ़ में होने वाले वैश्य क्रांति सम्मेलन में आगे की रणनीति और आंदोलन की घोषणा की जायेगी। इस महाधरना में मुख्य रूप से कार्यकारी अध्यक्ष रेखा मंडल (धनबाद), हीरानाथ साहु ( कांके), वरीय उपाध्यक्ष रामसेवक प्रसाद, मोहन साव (गोमिया), अश्विनी साहु, अजित प्रजापति, केंद्रीय उपाध्यक्ष लक्ष्मण साहु, परशुराम प्रसाद, प्रमंडल अध्यक्ष प्रमोद चौधरी (देवघर), केंद्रीय महासचिव कपिल प्रसाद साहु, अनीता केशरी, केंद्रीय सचिव गुड्डू साहा, शिवनंदन प्रसाद, संगठन सचिव अनिल वैश्य, राजेश्वर साव, केंद्रीय सदस्य नंदकिशोर भगत, भुनेश्वर साव, विनोद केशरी, दिनेश्वर साहु, मीनू शर्मा, जिप सदस्य कुमकुम देवी, जिलाध्यक्ष रोहित कुमार साहु (रांची), जिला संयोजक त्रिभुवन प्रसाद, ज्योतेन्द्र साहु (रामगढ़), महिला मोर्चा अध्यक्ष रेणू देवी, जितेंद्र साहु, मुकेशलाल सिंदूरिया, दिलीप भगत, राजकुमार केशरी, विनोद प्रसाद, प्रेम प्रकाश गुप्ता, महेंद्र कुमार, विनोद स्वर्णकार, रामरतन पोद्दार, आदित्य कुमार, हरीश प्रसाद आदि उपस्थित थे.

 

Check Also

धर्मस्थल लुगुबुरु-मरांगबुरु को बेहतर पर्यटन स्थल के रूप में जल्द से जल्द विकसित करें : चम्पाई सोरेन

🔊 Listen to this मुख्यमंत्री ने पर्यटन, कला-संस्कृति, खेल-कूद एवं युवा कार्य विभाग की उच्चस्तरीय …