Breaking News

रामगढ़ जिला पिछले 3 वर्षों से अवैध कारोबार का बन गया है केंद्र

शहर के सौदागर मुहल्ला में मेसर्स शरण इंडस्ट्रीज में औषधि नियंत्रण विभाग का छापा

नकली कॉस्मेटिक बनाने के मिनी फैक्ट्री का हुआ खुलासा

रामगढ़। झारखंड का रामगढ़ जिला पिछले 3 वर्षों से अवैध कारोबार का केंद्र बन गया है। जिला में लगभग सभी अवैध कारोबार पिछले दो-तीन वर्षों से चल रहा है। जिसके कारण बाहर के लोगों को भी रामगढ़ में आकर अवैध कारोबार करने का मौका मिल गया है। जिसका एक परिणाम शनिवार को देखने को मिला है। शहर के सौदागर मोहल्ला में नकली कॉस्मेटिक बनाने का फैक्ट्री का पर्दाफाश किया गया है। शहर के कोइरी टोला मिडिल स्कूल सौदागर मोहल्ला के बगल में मेसर्स शरण इंडस्ट्रीज द्वारा कॉस्मेटिक बनाने की अवैध मिनी फैक्ट्री चलाई जा रही थी। इसकी गुप्त सूचना औषधि नियंत्रण विभाग रांची को दिया गया।जिसके बाद सूचना के आधार पर रांची औषधि नियंत्रण विभाग द्वारा गोड्डा के रंजीत चौधरी, रांची के पुतली बिलुंग, हजारीबाग प्रतिभा झा, रामगढ़ वीरेन्द्र स्वांसी औषधि निरीक्षकों की टीम ने पुलिस बल के साथ छापेमारी की। जब एक-एक कर तीन कमरों को खोला गया तो निरीक्षकों की टीम भी दंग रह गई। वहां पर सिंदूर, लिक्विड बिंदी, ग्लिसरीन, उबटन सहित अन्य कॉस्मेटिक सामान पैकिंग कर बिना किसी लाइसेंस के कस्तूरी ब्रांड के नाम पर मैन्युफैक्चर की जा थी।

छापेमारी से पहले ही संचालक फरार हो गया। औषधि नियंत्रण विभाग की टीम ने फैक्ट्री सहित कार्यालय में छापेमारी कर भारी मात्रा में अवैध नकली कॉस्मेटिक सामानों को जब्त किया है। टीम की सदस्य प्रतिभा औषधि निरीक्षक हजारीबाग ने बताया कि औषधि विभाग के निदेशक को गुप्त सूचना मिली थी। जिसके बाद पूरी सूचना की तहकीकात कराई गयी। इसके बाद पूरी टीम ने इस मिनी फैक्ट्री में छापेमारी की है।यहां से भारी मात्रा में नकली कॉस्मेटिक सामान जब्त किया है। जानकारी के अनुसार 2017 से कोइरी टोला स्कूल के बगल में एक-एक कर तीन कमरों को किराए में लेकर मुल्तानी मिट्टी और सिंदूर पैकिंग का काम शुरू हुआ था। देखते ही देखते यहां पर सैनिटाइजर, गुलाब जल, मुल्तानी मिट्टी, उबटन, ग्लिसरीन, सिंदूर, लिक्विड बिंदी सहित अन्य कॉस्मेटिक बनने लगे। यहां से ये नकली प्रोडक्ट कंपनी के नाम पर झारखंड के विभिन्न स्थानों में सप्लाई होती थी। मेसर्स शरण इंडस्ट्रीज में छापेमारी के दौरान पहले तो कोई भी सामने नहीं आ रहा था। जब कड़ाई की गई तो संचालक के परिजन पहुंचकर हंगामा खड़ा करने का प्रयास भी किया।

 

Check Also

उपायुक्त की अध्यक्षता में हुई कृषि प्रौद्योगिकी प्रबंधन अभिकरण (आत्मा) की शासकीय निकाय की बैठक

🔊 Listen to this कृषि के क्षेत्र में उपज में वृद्धि हेतु नए तकनीकों का …