Breaking News

देवघर: राष्ट्रीय सुरक्षा सेवा के साथ जुड़ेगा देवघर का नाम

  • डीआरडीओ का होगा भंडारण गृह व देवघर अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर होगी विशेष व्यवस्था
  • एयरपोर्ट का निर्माण कार्य अंतिम चरण में
  • नये साल में देवघर को मिलेगा हवाई उड़ान का सौगात
  • 2.5 किमी लंबे व 45 मीटर चौड़ा रनवे में होगी एयर बस 320 तक उतारने की क्षमता

देवघर। देवघर जिला मुख्यालय का नाम शीघ्र ही राष्ट्रीय सुरक्षा सेवा के साथ जूड़ जाएगा। इसको लेकर रक्षा मंत्रालय से जूड़े डीआरडीओ की ओर से जिला मुख्यालय के देवघर दुमका रोड़ में मोहनपुर प्रखंड के त्रिकुट पर्वत के समीप भंडारण गृह होगा व देवघर अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट के माध्यम से सैन्य युद्ध सामग्री को लाने ले जाने के लिए डीआरडीओ के जहाज उतरने व ठहराव को लेकर विशेष व्यवस्था की जा रही है। जानकारों का कहना है कि डीआरडीओ के भंडारण गृह का इस्तेमाल किए जाने के लिए विशेष तरीके के एयरपोर्ट का होना जरुरी है। जिसके लिए देवघर अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट को तैयार किया जा रहा है। इससे देवघर का नाम राष्ट्रीय सुरक्षा सेवा के साथ भी जूड़ेगा।

बता दें कि इसको लेकर एयरपोर्ट पर रनवे, टैक्सी रोड़ व एफ्रॉन का निर्माण भारतीय एयरपोर्ट अथॉरिटी की ओर से पूरा कर लिया गया है। जबकि भवन निर्माण कार्य अंतिम चरण में है। संभव है कि वैश्विक महामारी के बीच नए साल के अवसर पर देवघर अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट को यात्री सेवा के लिए शुरू कर देवघरवासियों को हवाई उड़ान की सौगात दे दिया जाए। भारतीय एयरपोर्ट अथॉरिटी द्वारा इस वर्ष नवंबर तक एयरपोर्ट का निर्माण कार्य पूरा करने का लक्ष्य निर्धारित है। एयरपोर्ट निर्माण कार्य के बाबत कार्यस्थल के एजीएम भीआर टोप्पो ने दावा किया है कि सब कुछ ठीक-ठाक रहा तो तय समय पर लक्ष्य को पूरा कर लिया जाएगा। 410 करोड़ की लागत से बनने वाले देवघर अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट का निर्माण कार्य 2017 से शुरू हुआ और नवबंर 2020 तक निर्माण कार्य पूर्ण कर लिया जाना है। एयरपोर्ट का इस्तेमाल डीआरडीओ द्वारा भी किया जाएगा। एयरपोर्ट निर्माण में डीआरडीओ की ओर से 200 करोड़ रूपया का अंशदान दिया गया है। इसके अलावा 50-50 करोड़ राज्य सरकार व भारतीय एयरपोर्ट अथॉरिटी की ओर से अंशदान दिया गया है। जबकि शेष राशि केंद्र सरकार वहन कर रहा है। एयरपोर्ट के 2.5 किमी लंबी 45 मीटर चौड़ी रनवे पर एयर बस 320 तक उतारने की क्षमता होगी। जहां डीआरडीओ का जहाज भी उतरेगा। डीआरडीओ के जहाज व पायलट के ठहराव के लिए अलग से विशेष व्यवस्था की जा रही है।

निर्माणाधीन देवघर अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट के रनवे का निर्माण पूरा हो गया है। जबकि चाहर दीवारी निर्माण कार्य 90 प्रतिशत पूर्ण हो चुका है। भवान निर्माण कार्य का 65 प्रतिशत से अधिक हिस्सा पूरा हो चुका है। जिसमें टर्मिनल भवन, एटीसी टावर भवन, टेक्निकल ब्लॉक सह फायर स्टेशन भवन, इलेक्ट्रिकल सह मेकेनिकल भवन व सर्विस ब्लॉक भवन का निर्माण का कार्य किया जा रहा है। जबकि डीआरडीओ के जहाज के ठहराव के लिए अलग से टैक्सी रोड व एप्राण का निर्माण किया गया है। साथ ही भवन निर्माण कार्य भी तेज गति से जारी है। जानकारों का कहना है कि हवाई सेवा शुरू होने के बाद एयरपोर्ट का सुरक्षा घेरा भी सख्त होगा। जहां बिना अनुमति व सुरक्षा जांच के किसी को एयरपोर्ट के अंदर प्रवेश की इजाजत नहीं होगी। एयरपोर्ट के टर्मिनल भवन तक मुख्य सड़क से यात्री वाहनों की आवाजाही के लिए राज्य सरकार की ओर से सड़क निर्माण किया जा रहा है। एयरपोर्ट के लिए अलग से विशेष विद्युत आपूर्ति पावर सब स्टेशन बनाने का कार्य भी अंतिम चरण में है।

कोरोना काल के कारण निर्माण कार्य में आई बाधा

वैसे तो एक दफा लोकसभा में चालू सत्र के दौरान गोड्डा लोकसभा क्षेत्र के भाजपा सांसद डॉ निशिकांत दूबे के एक सवाल के जवाब में केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप पूरी ने निर्माण कार्य के बाबत जानकारी देते हुए कहा था कि सबकुछ ठीक ठाक रहने पर इसी वर्ष सितंबर माह हवाई सेवा शुरू करने की बात कही थी। लेकिन इसबीच कोरोना काल के आगमन के कारण देवघर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा निर्माण कार्य में बाधा पहुंची। अब भारतीय एयरपोर्ट अथॉरिटी नवंबर 20 तक कार्य पूरा करने का लक्ष्य रखा है।तो नये साल में हवाई उड़ान की सेवा शुरू होने की संभावना भी बढ़ गई है। इसबीच डीआरडीओ के जहाज द्वारा ट्रायल लेने की बात भी कही जा रही है।

Check Also

राजभवन में राज्यपाल ने मोदी @ 20 पुस्तक का किया विमोचन

🔊 Listen to this प्रधानमंत्री मोदी जी ने अपने कार्यों से पूरे विश्व में भारत …