Breaking News

बरही विधायक के समर्थकों ने इंजीनियर्स को पीटा, सड़क बनाने में अनियमितता का लगाया आरोप

भारतीय अनुसंधान संस्थान गौरियाकरमा में बन रहे प्रशासनिक भवन, हॉस्टल भवन सहित सडक निर्माण की जांच के लिए विधायक उमाशंकर अकेला अपने दर्जनों समर्थकों के साथ बुधवार को निर्माण स्थल पर पहुंचे। निरीक्षण के दौरान महावीर निर्माण प्राइवेट लिमिटेड कंपनी द्वारा बनाए जा रहे प्रशासनिक भवन का जायजा लिया। वहां उन्होंने निर्माण कार्य में लगाए जा रहे सामग्री की जानकारी वहां मौजूद साइट जेई विश्वजीत कुमार से ली। जेई विश्वजीत का आरोप है कि बिना उनकी बात सुने विधायक उमाशंकर अकेला ने अपने समर्थकों से कहा कि पहले इसे मारो। तब सही सही बताएगा। इतना सुनते हुए विनोद कुमार यादव ने उनके साथ गाली-गलौज कर मारपीट करने लगे।

क्या है जूनियर इंजीनियर का आरोप
जेई का आरोप है कि विधायक को सब कुछ सही सही बताया गया। बावजूद उनके साथ मारपीट एवं गाली गलौज की गई। उन्होंने बताया कि निर्माण कार्य सीपीडब्लू के देख रेख किया जा रहा है। विधायक उमाशंकर अकेला ने महावीर निर्माण कंपनी द्वारा बनाए जा रहे प्रशासनिक भवन का काम अनियमितता का आरोप लगाकर बंद करवा दिया। इसके साथ मॉडर्न कंपनी के द्वारा बनाए जा रहे हॉस्टल भवन के जेई श्यामल प्रसाद के साथ भी विधायक समर्थकों ने मारपीट की।

विधायक और उनके समर्थकों का है कहना
विधायक एवं उनके समर्थकों का तर्क है कि भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान में बन रहे प्रशासनिक भवन सहित अन्य भवन तथा रोड निर्माण में काफी अनियमितता बरती गई है। रोड की ढलाई मात्र 1 इंच की जा रही है। घटिया ईंट एवं रेत लगाया जा रहा है। घटिया क्वालिटी का सीमेंट लगाया जा रहा है। अपनी कमी एवं अनियमितता छिपाने के लिए झूठा आरोप लगा रहे है। विधायक उमाशंकर अकेला ने कहा कि जनप्रतिनिधि होने के नाते उनके क्षेत्र में बन रहे हर आधारभूत संरचना की गुणवत्ता की जांच एवं देखभाल करना उनकी ड्यूटी है।

मारपीट की शिकायत करेंगे

भारतीय अनुसंधान संस्थान परिसर में निर्माण कराने वाले एजेंसियों में महावीर निर्माण कंपनी के एके दुबे का कहा कि सारे निर्माण का कार्य केंद्र सरकार की निर्माण एजेंसी सीपीडब्लू के द्वारा किया जा रहा है। उनके इंजीनियर्स की निगरानी में ही सारे निर्माण कार्य हो रहे हैं। गुणवत्ता की जांच हर सप्ताह उच्च अधिकारियों के द्वारा होता रहता है। ऐसे में विधायक एवं उनके समर्थक के द्वारा अनियमितता की बात पूरी तरह गलत है। यदि अनियमितता थी तो विधायक एवं उनके समर्थकों को उचित फोरम में शिकायत करनी चाहिए। लेकिन, उनके जेई एवं अन्य स्टाफ के साथ मारपीट करना सही नहीं है। इसकी शिकायत उचित फोरम में की जाएगी।

Check Also

कुख्यात अमन साहू का सहयोगी 3 लाख का इनामी प्रमोद यादव मुठभेड़ में ढेर

🔊 Listen to this रांची। कोसी-सीमांचल क्षेत्र के साथ-साथ कई इलाकों में अपना आतंक फैला …