Breaking News

लैंड मोटेशन बिल में है कई खामियां : डॉ रामेश्वर

  • विधानसभा सत्र को लेकर कांग्रेस विधायक दल की बैठक संपन्न
  • विधानसभा सत्र में विधायक अपनी बातों को खुलकर रखेंगे:आलमगीर

रांची। कल से आहूत विधानसभा सत्र को लेकर झारखंड प्रदेश कांग्रेस विधायक दल मंडल की महत्वपूर्ण बैठक प्रदेश कांग्रेस विधायक दल नेता सहित ग्रामीण विकास मंत्री आलमगीर आलम की अध्यक्षता में संपन्न हुई। बैठक में मुख्य अतिथि के रुप में प्रदेश कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष सह खाद आपूर्ति एवं वित्त मंत्री डा रामेश्वर उराँव उपस्थित थे।

सभी विधायक ससमय विधानसभा में मौजूद रहें

बैठक में विधायक सह मंत्री बादल पत्रलेख, बन्ना गुप्ता, दीपिका पांडेय सिंह, ममता देवी, प्रदीप यादव बंधु तिर्की, उमाशंकर अकेला,रामचंद्र सिंह, भूषण बाड़ा, सोना राम सिंकू, पूर्णिमा नीरज सिंह मौजूद रहे। कोरोना वैश्विक पॉजिटिव होने के कारण सुश्री अंबा प्रसाद एवं नमन विकसल कोंगाड़ी अनुपस्थित रहे। जबकि बुखार होने की वजह से विधायक राजेश कच्छप अनुपस्थित थे। विधान सभा सत्र को लेकर विधायकों ने सर्वसम्मति से निर्णय लिया कि बैठक की गतिविधियों के संचालन में सभी विधायक ससमय विधानसभा में मौजूद रहेंगे।

हम सरकार से बात करेंगे

बैठक के उपरांत मीडिया कर्मियों से बात करते हुए प्रश्न के जवाब में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ रामेश्वर उराव ने कहा कि लैंड मोटेशन बिल में खामियां हैं। हम इस बात को स्वीकार करते हैं। हम सरकार से बात करेंगे।अभी फर्स्ट स्टेज में मंत्रिपरिषद ने कैबिनेट से पास किया है।मुख्यमंत्री से बात होगी और जनता के अनुरूप फैसले लिए जाएंगे। लैंड मोटेशन बिल लेकर बहुत सारे लोग और संगठन हमसे और कांग्रेस के विधायकों से मिल रहे हैं।हम इस पर सरकार से बात करेंगे। विधायकों को मान्यता देने के सवाल पर उन्होंने कहा कि हम विधानसभा के अध्यक्ष से लगातार बात कर रहे हैं। इस संदर्भ में जल्द ही फैसले लिए जाएंगेऋ गठबंधन के संदर्भ में उन्होंने कहा हमारा सामंज्सय पहले भी था आज भी है और कल भी रहेगा। दो दिन मैं स्वंय बेरमो के उपचुनाव को लेकर कांग्रेस जनों से मुलाकात किया जबकि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन जी भी तीन दिन दुमका में रह करके आए हैं ,दोनों ही उपचुनाव हम जीतेंगे।

कांग्रेस विधायक दल नेता आलमगीर आलम ने बैठक के बारे में बताते हुए कहा कि विधायक दल की बैठक सत्र बुलाने के पहले की जाती है। उसी क्रम में आज हमने बैठक बुलाया। पहला दिन अनुपूरक बजट रखा जाता है और शोक प्रस्ताव के साथ समाप्त हो जाते हैं। दो दिन के सत्र में रेखांकित प्रश्न उठाए जाएंगे। विधायक अपने प्रश्नों को रख सकते हैं और सरकार उसका जवाब देगी,कल्याणकारी राज्य हैं। विधायक चुनकर जीत कर आए हैं उनकी जो भी समस्याएं हैं। वह विधानसभा के पटल पर रख सकते हैं। कोविड-19 के चलते योजनाओं को गति नहीं दे पाए हैं। उसके लिए आगे की रणनीति भी तय की जाएगी। लैंड मोटेशन बिल के संदर्भ में उन्होंने कहा यह बिल पहले ही भारतीय जनता पार्टी लेकर आई थी। झारखंड में हम जनता के अनुरूप ही फैसला करेंगे। 24 घंटे इंतजार करें हम जल्द फैसला करके आपके समक्ष बताएंगे। सरना धर्म कोड को लेकर उन्होंने कहा कि यह भी हमारे संज्ञान में है, सत्र छोटा है पूरे देश में कोविड-19 के चलते दो-तीन दिनों का सत्र आहूत किया गया है बहुत सारी चीजें लाना मुश्किल है यह जनता भी जानती है। लेकिन लोगों की समस्याओं का निदान करने का हम भरपूर प्रयास करेंगे।

महत्वपूर्ण भूमिका निभाई

मंत्री बादल पत्रलेख ने बैठक में कहा किसानों की ऋण माफी को लेकर कार्रवाई प्रारंभ कर दी गई है। किसानों को लेकर सरकार दृढ़ संकल्पित है। बैठक के संचालन में प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे, लाल किशोर नाथ शाहदेव एवं डॉ राजेश गुप्ता छोटू ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

Check Also

सितंबर से चालू हो जाएगा कांटाटोली फ्लाईओवर

🔊 Listen to this नगर विकास एवं आवास विभाग के सचिव अरवा राजकमल ने जुडको …