Breaking News

मोरहाबादी मैदान में आंदोलनरत सहायक पुलिसकर्मियों पर लाठीचार्ज के मामले पर सदन में  जमकर हंगामा

झारखंड विधानसभा सत्र के दूसरे दिन सोमवार को सदन की कार्यवाही शुरू होते ही हंगामा शुरू हो गया। मोरहाबादी मैदान में आंदोलनरत सहायक पुलिसकर्मियों पर लाठीचार्ज के मामले पर जमकर हंगामा हुआ। भाजपा के विधायक वेल में पहुंच गए। स्पीकर रवींद्रनाथ महतो के मनाने के बाद विधायक अपने सीट पर वापस पहुंचे। सदन की कार्यवाही के दौरान सदन के नेता हेमंत सोरेन ने कहा कि सहायक पुलिसकर्मियों को समझाने के लिए सरकार के प्रतिनिधि वहां पहुंचते हैं, उनके जाने के बाद मोरहाबादी मैदान के आसपास विपक्ष के नेता मंडराने लगते हैं। इसके जवाब में रांची के विधायक और भाजपा के सीनियर नेता सीपी सिंह ने कहा कि मोरहाबादी मैदान के आसपास भाजपा के विधायक जॉगिंग के लिए जाते हैं।

विपक्ष ने सहायक पुलिसकर्मियों पर लाठीचार्ज के मुद्दे पर सदन में कार्यस्थगन प्रस्ताव लाया, जिसे अमान्य कर दिया गया

इससे पहले विपक्ष ने सहायक पुलिसकर्मियों पर लाठीचार्ज के मुद्दे पर सदन में कार्यस्थगन प्रस्ताव लाया, जिसे अमान्य कर दिया गया। हेमंत सोरेन ने सहायक पुलिसकर्मियों पर लाठीचार्ज के मामले पर कहा कि इस मामले पर विपक्ष इतना आक्रोशित क्यों हो गया है, यह समझ से परे है। हमने अपने प्रतिनिधि को सहायक पुलिसकर्मियों के पास भेजा था। कोरोना संक्रमण है, ऐसा जमावड़ा करना अपराध है।

कल सरकार के प्रतिनिधि ने मोरहाबादी मैदान में जाकर वार्ता कर स्पष्ट रूप से चीजें रखी हैं। हेमंत सोरेन ने कहा कि सहायक पुलिसकर्मियों में कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा है। लोगों की बातों को सुनना सरकार का दायित्व है। गिरिडीह के विधायक भी उनके पास गए थे। सभी बातें तय हो जाती हैं, लेकिन क्या कारण है कि प्रतिनिधियों के समझाने और उनके वापस लौटते ही थोड़ी देर बाद सहायक पुलिसकर्मी आक्रोशित हो जाते हैं।

सरकार हठधर्मिता और गलत चीजों पर कभी भी मौन नहीं रही सकती: हेमंत सोरेन
हेमंत सोरेन ने कहा कि सरकार और प्रशासन की मजबूरी बनती है, उन्हें उद्दंडता करने से रोके। मानवता के नाते सरकार सभी के बारे में सोचती है। हमने कोई कानूनी कार्रवाई उनके (सहायक पुलिसकर्मियों) के खिलाफ नहीं की है। सहायक पुलिसकर्मियों को भड़का कर उनका भविष्य खराब किया जा रहा है। सरकार हठधर्मिता और गलत चीजों पर मौन नहीं रह सकती। सरकार के सहनशीलता का परिचय न लिया जाए।

हेमंत सोरेन ने कहा कि मैं अपील करता हूं कि सहायक पुलिसकर्मियों के प्रति सरकार संवेदनशील है, विपक्ष से अपील है कि आप भी सहयोग करे। प्रक्रिया को करने में वक्त लगता है। हमने आश्वासन दिया है कि सब ठीक हो जाएगा। हेमंत सोरेन ने कहा कि मोरहाबादी मैदान में बड़े पैमाने पर खाना-पीना मुहैया कराया जा रहा है। ये अच्छी राजनीति का परिचय नहीं है। पॉजिटिव राजनीति होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि कभी-कभी घोषणा करने की स्थिति हो जाती है, तभी अचानक बवाल हो जाता है। जैसे ही सत्ता पक्ष समझाकर जाती है, विपक्ष वहां पहुंचकर जहर का बीज बो देते हैं।

सीपी सिंह ने कहा- सत्ता आपको लाठीचार्ज के लिए नहीं मिली है
सदन के नेता के बयान के बाद भाजपा विधायक सीपी सिंह ने कहा कि आपको जनता ने मेन्डेट दिया तो लाठी चलाने के लिए दिया है। उन्होंने हेमंत सोरेन की बातों का जवाब दिया कि मोरहाबादी मैदान में विपक्ष के विधायक जॉगिंग करने के लिए भी जाते हैं। आपके हिसाब से नहीं होता तो लगता है कि यही ठीक है। जनता ने सत्ता सौंपी तो बैठकर रास्ता निकालना चाहिए थे। आप रास्ता नहीं निकालना चाहते हैं। सीपी सिंह के वक्तव्य के दौरान सत्ता पक्ष की एक महिला विधायक ने कहा कि सत्ता आपको भी मिली थी, आपने पारा टीचरों पर लाठीचार्ज किया था।

सुदेश महतो ने कहा- अब हेमंत सोरेन को पहल करनी चाहिए
सीपी सिंह के बाद सदन में सिल्ली से विधायक सह आजसू सुप्रीमो सुदेश महतो ने कहा कि मुख्यमंत्री को अगर सहायक पुलिसकर्मियों के बीच कोरोना फैलने और उनके भविष्य की इतनी ही चिंता है तो उन्हें खुद अब इस मामले में पहल करनी चाहिए।

Check Also

महिला मतदान पदाधिकारियों को मालाएं पहनाकर बढ़ाया गया हौसला

🔊 Listen to this सफलतापूर्वक निर्वाचन संपन्न कराने की शुभकामनाओं के साथ जिला स्तरीय वरीय …