Breaking News

3 साल में ड्रैगन ने LAC पर दोगुने किए एयरबेस, हेलीपोर्ट

  • चीन ने अपने एयरबेस, एयर डिफेंस यूनिट और सैन्य पोजिशन की संख्या में बड़ा इजाफा किया

भारत और चीन के बीच सीमा पर जारी तनाव के बीच बड़ी खबर सामने आई है। वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास चीन ने अपने एयरबेस, एयर डिफेंस यूनिट और सैन्य पोजिशन की संख्या में बड़ा इजाफा किया है। पिछले तीन सालों में ड्रैगन ने सीमा पर अपने इलाके में हवाई ठिकानों की संख्‍या को दोगुना कर दिया है। स्ट्रेटफॉर की रिपोर्ट के मुताबिक, चीन ने डोकलाम में 2017 के गतिरोध के बाद भारत के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के पास एयरबेस और एयर डिफेंस यूनिट सहित कम से कम 13 नए सैन्य पदों (सैन्य पोजिशन) का निर्माण शुरू किया, जिनमें लद्दाख में मौजूदा तनाव के बाद चार हेलीपोर्ट पर काम शुरू हुआ।

असल मकसद उसका सीमा के पास सैन्य ठिकानों को बढ़ाना और तनाव पैदा करना है

एक प्रमुख सुरक्षा और खुफिया कंसल्टेंसी स्ट्रेटफॉर द्वारा मंगलवार को जारी एक रिपोर्ट में इन सैन्य ठिकानों का विवरण दिया गया है। नए सैन्य ठिकानों में तीन एयरबेस, पांच स्थायी एयर डिफेंस पोजिशन और पांच हेलीपोर्ट शामिल हैं। इस रिपोर्ट के सामने आने के बाद स्पष्ट हो गया है कि चीन दुनिया को दिखाने के लिए शांति वार्ता का राग अलाप रहा है, मगर असल मकसद उसका सीमा के पास सैन्य ठिकानों को बढ़ाना और तनाव पैदा करना है।

स्ट्रेटफॉर के साथ सैन्य और सुरक्षा विश्लेषक सिम टैक ने रिपोर्ट में कहा कि मई महीने में मौजूदा लद्दाख तनाव की शुरुआत के बाद ही चीन ने चार नए हेलीपोर्ट पर निर्माण कार्य शुरू किया है। उन्होंने आगे कहा कि 2017 के डोकलाम विवाद ने चीन के रणनीतिक उद्देश्यों में बदलाव लाया है, जिसके तहत चीन ने पिछले तीन वर्षों में भारतीय सीमा के पास एयरबेस, एयर डिफेंस पोजिशन और हेलीपोर्ट्स की कुल संख्या को दोगुना से अधिक किया है।

Check Also

झारखंड प्रगतिशील वर्कर्स का प्रतिनिधि मंडल रांची नगर निगम के आयुक्त से मिला,सोपा ज्ञापन

🔊 Listen to this रांचीlझारखंड प्रगतिशील वर्कर्स यूनियन के बैनर तले रांची नगर निगम के …