Breaking News

अमेरिकी डॉक्टरों ने ढूंढा कोरोना का इलाज, करीब 100% मरीजों की जान बचाने का दावा

  • चार तरह की दवाइओं को मिलाकर एक थेरेपी तैयार की है जिसका नाम ICAM है
  • नई थेरेपी का क्लिनिकल ट्रायल शुरू किया जा रहा है और डॉक्टरों को सकारात्मक रिजल्ट की उम्मीद है

अमेरिका के फ्लोरिडा के डॉक्टरों ने कहा है कि उन्होंने कोरोना वायरस बीमारी का एक इलाज ढूंढ लिया है. डॉक्टरों का कहना है कि नया ट्रीटमेंट करीब 100 फीसदी सफलता देने वाला है. अमेरिका के फ्लोरिडा के एडवेंटहेल्थ हॉस्पिटल के डॉक्टर्स का कहना है कि उन्होंने चार तरह की दवाइओं को मिलाकर एक थेरेपी तैयार की है जिसका नाम ICAM है. इस थेरेपी को इम्यून सिस्टम को बूस्ट करने के लक्ष्य के साथ तैयार किया गया है.  रिपोर्ट के मुताबिक, नई थेरेपी को तैयार करने वाले डॉक्टर्स ने इम्यून सिस्टम को बूस्ट करने के साथ-साथ फेफड़ों को इन्फ्लैमेशन से बचाने का ख्याल भी रखा है. फिलहाल नई थेरेपी का क्लिनिकल ट्रायल शुरू किया जा रहा है और डॉक्टरों को सकारात्मक रिजल्ट की उम्मीद है.

बिना हॉस्पिटल में भर्ती किए भी ICAM से कोरोना मरीजों का इलाज किया जा सकता है.

ट्रायल के दौरान अगर ICAM थेरेपी सुरक्षित और प्रभावी साबित होती है तो बिना हॉस्पिटल में भर्ती किए भी ICAM से कोरोना मरीजों का इलाज किया जा सकता है. बता दें कि अब तक कोरोना की एक भी ऐसी दवा ढूंढी नहीं जा सकी है जो ज्यादातर गंभीर मरीजों की जान बचा सके.

वहीं, दुनियाभर में इस वक्त कई दर्जन कोरोना वैक्सीन का ट्रायल भी किया जा रहा है, लेकिन कई एक्सपर्ट्स यह भी कह चुके हैं कि सिर्फ वैक्सीन के जरिए कोरोना महामारी खत्म करना आसान नहीं है. वैक्सीन हर व्यक्ति को सुरक्षा दे पाए यह भी जरूरी नहीं है, ऐसे में एक्सपर्ट्स अन्य विकल्पों की तलाश भी कर रहे हैं.

एडवेंटहेल्थ हॉस्पिटल की डायरेक्टर ऑफ फार्मेसी कारलेट नोरवूड विलियम्स ने फॉक्स 35 से कहा कि स्टडी के रिजल्ट आने के बाद हमें अगले स्टेप की जानकारी मिलेगी. लेकिन उन्होंने कहा कि ICAM मरीजों को गंभीर बीमार होने से बचाता है, इसलिए उन्हें वेंटिलेटर पर रखने की जरूरत नहीं होती. रिसर्चर्स ने कहा है कि नई थेरेपी के जरिए 96.4 फीसदी कोरोना मरीजों की जान बचाई जा सकती है. रिसर्चर्स अप्रैल से ही इस थेरेपी पर काम कर रहे हैं.

डॉक्टर्स ने यह भी स्पष्ट किया है कि ICAM नई दवा नहीं है, बल्कि इसमें 4 दवाओं का एक साथ इस्तेमाल किया गया है. इनमें इम्यूनोसपोर्ट ड्रग (विटामिन C और जिंक), Corticosteroids,  Anticoagulants और Macrolides शामिल हैं.

Check Also

विश्व कैंसर दिवस पर अग्रसेन स्कूल में परिचर्चा का आयोजन

🔊 Listen to this सजगता और नियमित स्वास्थ्य परीक्षण से हो सकता है बचा,त्यागना होगा …