Breaking News

रांची:किसान बिल के विरोध में कांग्रेस ने किया राजभवन मार्च, मोरहाबादी में जुटे कांग्रेसी

  • कांग्रेस ने राज्यपाल के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन सौंपा

संसद में पारित तीन कृषि बिल के खिलाफ कांग्रेस के देशव्यापी आंदोलन में सोमवार को राजधानी रांची के मोरहाबादी स्थित गांधी प्रतिमा से राजभवन मार्च का आयोजन किया गया। सभी कांग्रेसी मोरहाबादी में जुटे इसके बाद यहां से पैदल मार्च करते हुए सभी राजभवन तक पहुंचे। कांग्रेस ने राज्यपाल के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन सौंप दिया।

किसान भी तबाह, आम आदमी भी तबाह

इस मौके पर कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष व वित्त मंत्री रामेश्वर उरांव ने कहा कि देश के लोगों को किसानों के पक्ष में रहना चाहिए। युगों-युगों से किसानों ने ही देश का पेट भरा है। आज उनकी स्थिति खराब है। मजबूर होकर वो आत्महत्या कर लेते हैं। लागत के अनुसार मूल्य नहीं मिलता है। आज कृषि बिल लाकर साजिश की जा रही है। मंडियों के लोगों को बेरोजगार करने का काम कर रही है। बड़े पूंजीपति आएंगे, क्या मूल्य देंगे। कुछ पता नहीं। कम दाम में खरीदेंगे और ज्यादा भाव पर बेंचेंगे। इसके बाद किसान भी तबाह, आम आदमी भी तबाह। उन्होंने कहा- प्रधानमंत्री ने वादा पूरा नहीं किया। नोटबंदी की, कहा काला धन निकलेगा। पर कहां निकला। इस अवसर पर स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता, ग्रामीण विकास मंत्री आलमगीर आलम, कृषि मंत्री बादल पत्रलेख समेत कई विधायक भी मौके पर मौजूद रहे।

इस आंदोलन में शामिल होने के लिए पार्टी के प्रदेश प्रभारी आरपीएन सिंह रविवार को ही रांची पहुंच गए। एयरपोर्ट पर मीडिया से बातचीत में कांग्रेस प्रभारी आरपीएन सिंह ने कहा कि जिस जमींदारी प्रथा को कांग्रेस पार्टी ने खत्म करने का काम किया, उसको देश में एक बार फिर से थोपने की कोशिश हो रही है। उन्होंने कहा कि भाजपा ने अपने पूंजीपति मित्रों की सहायता के लिए देश के किसानों पर हमला बोला है। कांग्रेस का एक-एक कार्यकर्ता इसके खिलाफ गोलबंद हो चुका है और किसान व आम जनता के सहयोग से इस कानून को वापस लेने के लिए केंद्र सरकार को मजबूर कर दिया जाएगा।

Check Also

मतदान के बाद जेबीकेएसएस समर्थित निर्दलीय प्रत्याशी ने किया धन्यवाद प्रकट

🔊 Listen to this मतदाताओं ने दिया जागरूकता का परिचय,संघर्ष के सफर में साथ देने …