Breaking News

मध्यप्रदेश विधानसभा उपचुनाव घोषित, आचार संहिता लागू

  • मध्य प्रदेश की 28 सीटों पर होने वाले उपचुनाव के लिए चुनाव आयोग द्वारा घोषणा कर दी गई है
भोपाल। भारत निर्वाचन आयोग ने मध्य प्रदेश की 28 सीटों पर होने वाले उपचुनाव के लिए चुनाव आयोग द्वारा घोषणा कर दी गई है। इसी के साथ सभी 28 विधानसभा सीटों पर आचार संहिता लागू हो गई है। विस्तृत चुनाव कार्यक्रम मध्यप्रदेश राज्य के मुख्य चुनाव अधिकारी द्वारा जारी किया जाएगा। चुनाव परिणाम 10 नवंबर को घोषित किए जाएंगे। पहले चरण की अधिसूचना 1 अक्टूबर को जारी होगी। नामांकन की आखिरी तारीख 8 अक्टूबर है। मतदान 28 अक्टूबर को होगा। दूसरे चरण का चुनाव 3 नवंबर को होगा और आखिरि यानी तीसरे चरण का मतदान 7 नवंबर को होगा। 10 नवंबर को वोटों की गिनती की जाएगी।
मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने बताया कि कोविड के चलते 70 से ज्यादा देशों ने अपने देश के चुनाव टाल दिए हैं। कोरोना काल में लोगों के हेल्थ और सुरक्षा का पूरा ध्यान रखा जाएगा। चुनाव आयोग ने इसके लिए काफी तैयारी की है। चुनाव कार्यक्रम को भी इसी को ध्यान में रखकर बनाया गया है। राज्यसभा चुनाव और विधान परिषद चुनावों में हमने ऐसा किया है। चुनाव नागरिकों का लोकतांत्रिक अधिकार है। इसलिए चुनाव कराने जरूरी है।

ग्वालियर-चंबल में होगा मुख्य मुकाबला 

मध्य प्रदेश की 28 सीटों पर विधानसभा का उपचुनाव होना है परंतु मुख्य मुकाबला ग्वालियर-चंबल संभाग की 16 सीटों पर होगा। सभी 16 विधानसभा क्षेत्रों पर ज्योतिरादित्य सिंधिया का प्रभाव माना जाता है जिन्होंने पिछले दिनों कांग्रेस से इस्तीफा देकर कमलनाथ सरकार गिराई और भारतीय जनता पार्टी में शामिल होकर शिवराज सिंह सरकार बनवाई।

कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया के भविष्य का चुनाव 

मध्यप्रदेश में विधानसभा उपचुनाव 2018 में हुए थे। 15 महीने कांग्रेस की कमलनाथ सरकार चली और पिछले 6 महीने से शिवराज सिंह सरकार काम कर रही है। उपचुनाव में 28 जीत हार से मध्य प्रदेश की जनता का कुछ खास भला नहीं होगा क्योंकि दोनों ही पार्टियां 2018 के घोषणा पत्र को पूरा नहीं करेंगी।
लेकिन कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया के लिए यह उनके राजनीतिक भविष्य का चुनाव है। यदि ग्वालियर-चंबल की सीटों पर ज्योतिरादित्य सिंधिया हार गए तो उनके पास से ग्वालियर-चंबल का नेता होने का तमगा छिन जाएगा। और यदि ग्वालियर-चंबल के बाहर 12 विधानसभा सीटों पर कमलनाथ हार गए, तो जय-जय कमलनाथ की जगह, हाय-हाय कमलनाथ सुनाई देगा।

Check Also

अनाधिकृत निर्माण के नियमितीकरण कार्यशाला में बोले सांसद संजय सेठ

🔊 Listen to this भवन निर्माण के लिए नक्शा पास कराने की प्रक्रिया को सरल …